जन्मभूमि पर बरसे हुरियारिनों के लट्ठ, द्वारकाधीश, बांकेबिहारी मंदिर में उड़ा गुलाल, देखें वीडियो

जन्मभूमि पर बरसे हुरियारिनों के लट्ठ, द्वारकाधीश, बांकेबिहारी मंदिर में उड़ा गुलाल, देखें वीडियो

Amit Sharma | Publish: Mar, 17 2019 07:56:23 PM (IST) Mathura, Mathura, Uttar Pradesh, India

-रंगभरनी एकादशी पर मंदिरों में उमड़े लाखों श्रद्धालु, जगह-जगह लगा जाम

मथुरा। श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर हुरियारिपनों की लाठियों की तड़तड़ाहट तो मथुरा के द्वारिकाधीश और वृंदावन के बांकेबिहारी मंदिर में रंग और गुलाल की होली की धूम रही। वृंदावन में भीड़ का दबाव इतना ज्यादा रहा कि यातायात व्यवस्था ही चरमरा गई। रंगभरनी एकादशी पर ब्रज के मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर लठामार होली खेली गई। वही द्वारकाधीश और बांकेबिहारी मंदिर में रंगों की होली हुई। श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। लीला मंच पर सांस्कृतिक होली सुबह से शुरू हुई। राधाकृष्ण के स्वरूपों की आरती उतारी गई।

मोर कुटी पर कान्हा मोर बनिया आयो, कान्हा बनसाने में आई जईयों बुलाई गयी राधा प्यारी जैसे गीतों पर श्रद्धाुल थिरकने को मजबूर हो गये। चरकुला और मयूर नृत्य ने भी लोगों का मनमोह लिया। शाम को रावल की हुरियारिनों ने लाठमार होली खेली। दूसरी ओर कान्हा की नगरी के शहर कोतवाल कहे जाने वाले प्रसिद्ध द्वारकाधीश मंदिर में आंवला एकादशी पर होली खेली गई। .भगवान द्वारकाधीश ने भक्तों संग होली खेली। भगवान के संग होली में शामिल हुए लाखों श्रद्धालुओं ने अपने प्रभु के साथ होली का जमकर आनंद लिया। द्वारकाधीश मंदिर में फूल और रंगों से होली खेली गई। द्वारकाधीश में रंग की होली खेले जाने के साथ ही समूचे ब्रज में रंग की होली की शुरूआत हो जाती है।

ब्रज के प्रसिद्ध मंदिरों में अलग अलग तरीके से होली का त्योहार मनाया जा रहा है। वहीं शहर के बीचों बीच स्थित शहर के कोतवाल कहे जाने वाले प्रसिद्ध द्वारकाधीश मंदिर में भी रंग की होली का आगाज हुआ। भगवान और भक्तों ने होली खेली भगवान के संग होली खेल श्रद्धालुओं ने अपने आप को धन्य समझा और भगवान की भक्ति में लीन हो गए। उड़ते गुलाल और पिचकारियों के रंग में सराबोर होने के लिए श्रद्धालु आतुर दिखाई दिए। उड़ते गुलाल और पिचकारियों के रंगों को अपने ऊपर लेने के लिए श्रद्धालु एक दूसरे को पीछे करने में लगे हुए थे। मानो भगवान की कृपा बरस रही हो इस पावन पर्व पर लाखों की संख्या में श्रद्धालु द्वारकाधीश मंदिर में होली खेलने पहुंचे श्रद्धालुओं ने जमकर होली का लुफ्त उठाया। एकादशी पर श्रद्धालुओं की भीड़ ब्रज के सभी मंदिरों में उमड़ती रही। इसके चलते जगह-जगह जाम के भी हालात बने रहे।

गालों पर लगाई केसर की कीच
रंगभरनी एकादशी सेवायतों ने सबसे पहले रजत सिंहासन पर श्वेत पोशाक धारण कर विराजमान हुए ठाकुर बांकेबिहारी के गालों पर गुलाब जल और केसर से तैयार की गई कीच लगाई। इसके साथ ही मंदिर में होली की शुरुआत हो गई। यह क्रम दोपहर राजभोग आरती तक जारी श्रृंगार आरती के बाद जनजन के आराध्य ठाकु ने जब भक्तों संग होली खेली तो चहुंओर अद्भुत और अलौकिक होली के रंग बिखरने लगे। बांकेबिहारी के जयकारों के बीच धक्का-मुक्की की परवाह किए बिना श्रद्धालुओं ने होली का आनंद लिया। हरा, गुलाबी, लाल, पीला, केसरिया आदि रंगों का गुलाल सेवायतों ने भक्तों पर डाला।

होली के कार्यक्रम
गोकुल में छड़ीमार होली 18 मार्च
20 मार्च होलिका दहन फालेन का पंडा आग से निकलेगा
21 मार्च द्वारिकाधीश मंदिर मथुरा की होली
22 मार्च दाऊ जी का कोड़ेमार हुरंगा
22 मार्च को मुखराई चरुकुला नृत्य
26 मार्च को मानसी गंगा दसविसा ब्राह्मणान हुरंगा एवं होली महोत्सव
29 मार्च को जतीपुरा गिरिराज जी मंदिर में फूल डोल महोत्सव

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned