scriptholi 2022 how to make Natural gulal by Flowers | Holi 2022 : इन विधवा माताओं से सीखें कैसे फूलों से बनता है प्राकृतिक गुलाल | Patrika News

Holi 2022 : इन विधवा माताओं से सीखें कैसे फूलों से बनता है प्राकृतिक गुलाल

प्राकृतिक गुलालHoli 20222 : भगवान बांके बिहारी के चरणों में चढ़ाए गए फूलों से विधवा माताएं बना रही प्राकृतिक गुलाल की दुनियाभर में डिमांड है। वृंदावन के चैतन्य विहार स्थित महिला आश्रय सदन में दर्जनों विधवा माताएं अपने हाथों से प्राकृतिक गुलाल तैयार कर रही हैं। हर बार की तरह इस बार भी ठाकुर जी के चरणों में अर्पित फूलों के गुलाल की खासी डिमांड है।

मथुरा

Published: February 24, 2022 08:14:49 pm

Holi 20222 : ब्रज में होली का एक अलग ही महत्व है। यह महत्व तब और बढ़ जाता है, जब वृंदावन के आश्रय सदन में रहने वाली विधवा माताएं भगवान बांके बिहारी के श्री चरणों में अर्पित फूलों से गुलाल तैयार करती हैं। अपनों ने जिन माताओं की जिंदगी को बदरंग कर दिया था, आज वहीं माताएं दूसरों की जिंदगी में रंग भरने का कार्य कर रही हैं। बसंत पंचमी के दिन से ही मंदिरों से आश्रय सदन में फूल चुनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। ये माताएं तीन दिन की कड़ी मेहनत के बाद गुलाल तैयार करती हैं। फिलहाल वृंदावन के महिला आश्रय सदन में दर्जनों विधवा माताएं ठाकुर जी के चरणों में अर्पण किए गए फूलों से प्राकृतिक गुलाल बनाने का कार्य कर रही हैं। बता दें कि हर बार की तरह इस बार भी ठाकुर जी के चरणों में अर्पित फूलों के गुलाल की खासी डिमांड है।
holi-2022-how-to-make-natural-gulal-by-flowers_1.jpg
ब्रज गंधा प्रसाद समिति के असिस्टेंट मैंनेजर सुधांशु मिश्रा ने बताया कि अपनी सुविधा के अनुसार यहां रह रहीं माताएं समय निकाल कर फूलों से हर्बल गुलाल तैयार करने में जुटी हैं। करीब 60 विधवा माताएं फूलों से गुलाल बना रही हैं। उन्होंने बताया कि करीब 30 से 40 किलो फूल प्रतिदिन मंगाए जाते हैं। इन फूलों में गुलाब गेंदा के साथ-साथ चमेली और मोगरा के फूल भी शामिल हैं। विधवा माताएं सभी फूलों को पहले अलग-अलग करती हैं और फिर इन्हें सुखाती हैं। उसके बाद मशीन के जरिए फूलों का पाऊडर तैयार किया जाता है। 3 दिन की प्रक्रिया के बाद गुलाल तैयार होकर पैकेजिंग के लिए जाता है। उन्होंने बताया कि यहां 50 रुपये का 50 ग्राम और 100 रुपये का 100 ग्राम गुलाल बेचते हैं।
यह भी पढ़ें- मैं अयोध्या हूं... रामनगरी चुपचाप सुन रही भविष्य का आहट, 27 को तय होगी मुस्कराहट

स तरह बनाया जाता है प्राकृतिक गुलाल

समिति के प्रोडक्ट कॉर्डिनेटर विक्रम शिवपुरी ने बताया कि बांके बिहारी मंदिर में चढ़ने वाले फूलों की यहां सबसे पहले सफाई की जाती है, जिसके बाद छटाई का काम होता है। इसके बाद फूलों को सुखाया जाता है और फिर पीसकर उनका पाउडर तैयार करके रख लिया जाता है। इस पाउडर का इस्तेमाल अगरबत्ती बनाने में भी होता है। मंदिरों में चढ़ने वाले फूलों से गुलाल और अगरबत्ती बनाने का काम पिछले वर्ष शुरू किया गया था। इस बार 4-5 क्विंटल गुलाल तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है।
सरकार की ओर से यहां रह रही निराश्रित माताओं को पेंशन मिलती ही है। अगरबत्ती और गुलाल बनाने के एवज में भी इन महिलाओं को इनके काम के लिए पारिश्रमिक दिया जाता है। जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि चैतन्य विहार आश्रय सदन में करीब 230 महिलाएं रह रही हैं। इनमें से 60 महिलाएं अपने समय के अनुसार काम करती हैं।
3 वर्ष से माता पार्वती बना रही गुलाल

महिला आश्रय सदन में पिछले 10 वर्षों से रह रहीं बदायूं की विजवा माता पार्वती ने बताया कि 3 वर्ष से हम यह गुलाल बना रहे हैं। भगवान के श्री चरणों से मंगाए गए फूलों का गुलाल लोगों के माथे पर लगकर माथे की शोभा बढ़ाता है। उन्होंने बताया कि इस गुलाल को बेचने से पहले ठाकुर बांके बिहारी के श्री चरणों में गुलाल को अर्पित किया जाता है। उसके बाद इसे बेचने के लिए भेजा जाता है। हम सौभाग्यशाली हैं कि भगवान के श्री चरणों से लाए गए फूलों से हम गुलाल तैयार कर रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

अब असम में भी चला बुलडोजर, थाना फूंकने वाले पांच परिवारों के घर गिराए, 20 आरोपी हिरासत मेंAzam Khan और अखिलेश में बढ़ी दूरियां, सपा विधानमंडल दल की बैठक में नहीं गए आजम खानगृहमंत्री अमित शाह ने राहुल गांधी पर कसा तंज, कहा - 'इटालियन चश्मा उतारें, तभी दिखेगा विकास''मातोश्री क्या कोई मस्जिद है?' पुणे रैली में राज ठाकरे ने PM से की यूनिफॉर्म सिविल कोड व जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांगपटना एयरपोर्ट पर बड़ा हादसा, निर्माण कार्य के दौरान गिरा लोहे का स्ट्रक्चर, दो मजदूरों की मौत, एक की टूटी रीढ़ की हड्डीPM मोदी तक पहुंची अल्मोड़ा की 'बाल मिठाई', स्टार शटलर लक्ष्य सेन ने ऐसा पूरा किया अपना वायदाराजस्थान में 50 हजार अपराधियों की बनेगी'कुंडली' थाना स्तर पर बनेगा डोजीयरभारतीय स्टार Veer Mahaan ने WWE दिग्गज को मार-मारकर किया बेसुध, पाकिस्तानी मूल का रेसलर धराशाई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.