जानिए, वो असल वजह जिसने प्रियंका को कांग्रेस छोड़ने पर किया मजबूर

जानिए, वो असल वजह जिसने प्रियंका को कांग्रेस छोड़ने पर किया मजबूर

Amit Sharma | Publish: Apr, 21 2019 03:32:56 PM (IST) | Updated: Apr, 21 2019 03:36:57 PM (IST) Mathura, Mathura, Uttar Pradesh, India

-सितम्बर 2018 में मथुरा में प्रेसवार्ता के दौरान हुआ था विवाद। कार्यवाहक जिलाध्यक्ष सहित आधा दर्जन से अधिक को किया गया था छह साल के लिए पार्टी से निलंबित।

-निलंबन वापस लिये जाने से नाराज थीं प्रियंका।

मथुरा। कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता रहीं प्रियंका चतुर्वेदी ने मथुरा विवाद का हवाला देकर कांग्रेस छोड़ दी है। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस कितनी मजबूत होकर उभरी है यह तो 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद ही पता चलेगा लेकिन मथुरा में कांग्रेस जिस कारण से हमेशा सुर्खियों में रहती है वह है गुटबाजी और पार्टी के अंदर के आपसी झगड़े।

गुटबाजी और विवाद को लेकर स्थानीय कांग्रेसी एक बार फिर से चर्चा में हैं। इस बार मामला राष्ट्रीय स्तर तक पहुंच गया है, लोकसभा चुनावों के बाद संभव है कि इस ओर पार्टी के बड़े नेताओं का ध्यान जाये और कुछ कड़े फैसले लिये जाएं। मथुरा कांग्रेस के विवाद में उलझ कर हाल फिलहाल कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही पार्टी भी छोड़ दी है।

क्या था विवाद

विवाद सितम्बर 2018 में प्रियंका चतुर्वेदी की मथुरा में हुई उस प्रेसवार्ता से शुरू हुआ था जिसमें राफेल सौदे पर पार्टी का पक्ष मीडिया के सामने रखने के लिए मथुरा आई थीं। प्रेसवार्ता के दौरान ही कांग्रेस के कुछ नेताओं ने अपनी बात रखने की अनुमति मांगी। इस पर राष्ट्रीय प्रवक्ता ने प्रेसवार्ता के बाद उन्हें अपनी बात रखने को कहा, लेकिन वह लोग नहीं मांने और प्रेसवार्ता के दौरान ही हंगामा हो गया। इसके बाद प्रियंका चतुर्वेदी ने इसकी शिकायत की और उन्हीं की संस्तुति पर आधा दर्जन से अधिक पार्टी नेताओं को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। यहां तक सब सही रहा, इसके बाद पश्चिमी यूपी प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया की पहल पर इन निष्कासित नेताओं को हिदायत के बाद फिर से पार्टी में ले लिया गया। इसके बाद प्रियंका चतुर्वेदी ने पार्टी छोड़ने का ऐलान कर दिया और बाकायदा इसके लिए मथुरा में उनके साथ हुए वकाये को इस पूरे घटनाक्रम के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

स्थानीय कांग्रेस नेताओं का माना है कि प्रियंका चतुर्वेदी के इस्तीफे के बाद भी यह विवाद थमने नहीं जा रहा है। पार्टी के अंदर स्थानीय स्तर पर गुटबाजी की जड़ें कुछ ज्यादा ही गहरी हो चली हैं। यह विवाद लोकसभा चुनाव संपन्न होने के बाद अपना रंग दिखाएगा।

इन पर हुई थी कार्रवाई

इन नेताओं का हुआ था छह साल के लिए निलंबन

-अशोक कुमार चकलेश्वर, कार्यकारी जिलाध्यक्ष

-उमेश पंडित, महासचिव उत्तर प्रदेष कांग्रेस कमेटी

-प्रताप सिंह, पूर्व प्रत्याशी विधान सभा छाता

-अब्दुल जब्बार, सदस्य यूपी कांग्रेस कमेटी

-गरधारी लाल पाठक

-भूरी सिंह जायस, पूर्व सेवादल जिलाध्यक्ष

-प्रवीण ठाकुर, एनएसयूआई मथुरा

-यतीन्द्र मुकदम, युवा कांगे्रस अध्यक्ष मथुरा

 

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

UP lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ा तरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned