शहीद की पत्नी का फारूक अब्दुल्ला को जवाब, कहा- अपने बच्चों को फौज में भेजो तब पता चलेगी शहादत

शहीद की पत्नी ने कहा कि नेता अपनी औलाद को फौज में भेजकर देखें तब उनको पता चलेगा कि पति, पिता, बेटा और भाई खोने का क्या दर्द होता है।

By: मुकेश कुमार

Updated: 12 Nov 2017, 03:45 PM IST

मथुरा। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीर को लेकर एक बार फिर विवादित बयान दिया है। उन्होंने पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) को पाकिस्तान का हिस्सा बताया। उनके इस बयान लेकर शहीदों के परिवारों में रोष है। मथुरा जिले में रहने वाली कारगिल शहीद रवि करण की पत्नी ने फारूक अब्दुल्ला को करारा जवाब दिया है।

कारगिल युद्ध में शहीद हुए पति
कारगिल युद्ध में शहीद हुए रवि करन की पत्नी विमलेश देवी मथुरा की मांट तहसील के गांव नावली में रहती हैं। पति की शहादत के बाद विमलेश देवी ने खुद को परिवार के लिए समर्पित कर दिया। बच्चों को पाला-पोसा। विमलेश अपने शहीद पति की निशानी बेटी नीतू को सेना के लिए तैयार कर रही है। बेटी में भी अपने पिता की तरह देश के लिए कुछ करने का जज्बा है।

नेताओं को क्या मालूम शहादत
शहीद रविकरण की विमलेश देवी कहती हैं कि उन्हें बहुत तकलीफ होती है, जब नेता इस तरह के बयान देते हैं। उनका कहना है कि नेता सिर्फ जुबान चलाते हैं। उन मां-बाप से पूछो जिसका लाल शहीद होता है। उस बहन से पूछो जिसका भाई शहीद होता है। उस पत्नी से पूछा जिसका सुहाग उजड़ता है। नेताओं को क्या मालूम शहादत क्या होती है।

Family Of Martyr Ravi Karan

अपनी औलाद को फौज में भेजकर देखो
विमलेश देवी ने कहा कि देश की रक्षा में एक सैनिक ही नहीं, उसका परिवार भी अपनी खुशियां की शहादत देता है। शहीदों के परिवार बस बिलखते रह जाते हैं। विमलेश का कहना है कि नेता अपनी औलाद को फौज में भेजकर देखें तब उनको पता चलेगा कि पति, पिता, बेटा और भाई खोने का क्या दर्द होता है।

Family Of Martyr Ravi Karan

बेटी ने दिया ये जवाब
फारूक अब्दुल्ला के विवादित बयान पर शहीद की बेटी नीतू चौधरी ने कहा कि कि नेता सिर्फ वोट बैंक के लिए इस तरह के बयान देते हैं। उनके ऐसे बयानों से हमारी फौज का भी मनोबल कम होता है। नेताओं के इन बयानों से कष्ट होता है। बता दें कि फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) पाकिस्तान का हिस्सा है और ये नहीं बदलने वाला। चाहे भारत और पाक कितनी ही जंग लड़ लें।

मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned