यूरिया खाद की बोरी से बनी पीपीई किट नही पहनेंगे मथुरा के 108 एम्बुलेंस चालक

दर्जनों की संख्या में एकत्रित होकर 108 एंबुलेंस चालक और परिचालक ने जिला अधिकारी को अपनी समस्या बताते हुए ज्ञापन सौंपा।

By: Mahendra Pratap

Updated: 24 Jul 2020, 05:16 PM IST

मथुरा. कोरोना चेन तोड़ने के लिए सरकार भरपूर प्रयास कर रही है। स्वास्थ्य विभाग से हरसंभव मदद दी जा रही है जो कोरोना संक्रमित मरीजों को लाने ले जाने का कार्य करते हैं। 108 एम्बुलेंस चालक और परिचालकों ने स्वास्थ्य विभाग पर सवालिया निशान खड़े किए हैं। इन लोगों का आरोप है इन्हें यूरिया खाद की बोरी से तैयार कराई गई पीपीई किट दी गयी है। इसका विरोध करते हुए जिलाधिकारी को लिखित शिकायत दी गई है कि जो किट ओरिजिनल हैं वह दी जाएं। इन किटों को पहनकर हम बिल्कुल भी काम नहीं करेंगे।

दर्जनों की संख्या में एकत्रित होकर 108 एंबुलेंस चालक और परिचालक ने जिला अधिकारी को अपनी समस्या बताते हुए ज्ञापन सौंपा। 108 यूनियन प्रवक्ता आकाश दुबे ने बताया कि हम लोग कोरोना काल में कोरोना संक्रमित मरीजों को लाने ले जाने का कार्य करते हैं और जो पीपीई किट हम लोगों को स्वास्थ्य विभाग से मुहैया कराई गई है वह घटिया क्वालिटी की है और देखने से ऐसा लगता है यूरिया खाद की बोरी से इस पीपीई किट को तैयार करा कर हम लोगों को दे दिया है। जो क्वालिटी किट की होती है उस क्वालिटी की किट नहीं है और इसे 5 मिनट भी हम लोग इसे नहीं पहन सकते। बिना पीपीई किट पहन कर मरीजों को लाना हमें मंजूर है लेकिन इस किट को पहन कर बिल्कुल भी मरीजों को नहीं लाएंगे।

आकाश दुबे ने यह भी बताया कि कुछ दिन पूर्व एक पेशेंट को लेने जा रहा था जो कि कोरोना पॉजिटिव था और मैंने तब यह किट पहनी तो मेरी हालत खराब हो गई जैंत चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने मुझे अस्पताल में भर्ती कराया। हम लोग जिलाधिकारी महोदय के पास आए हैं अपनी समस्या को लेकर अगर हमारी समस्या सुन ली जाती है तो ठीक अगर इसी तरह की पीपीई किट को पहनकर हमें काम नहीं करना। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भी हम लोगों ने लिखित में दिया है लेकिन कोई सुनवाई आज तक नहीं हुई ।

पूर्व सीएमओ ने ख़रीदी थी पीपीई किट :- पूर्व सीएमओ डॉक्टर शेर सिंह ने इन किटों को खरीदा था। सूत्र बताते हैं कि जब यह किट खरीदी गई थी तब सरकारी जीओ के हिसाब से और मानकों के हिसाब से इन किट को नहीं खरीदा गया था और यही वजह रही की पूर्व सीएमओ मथुरा को यहां से हटा कर अन्य जिले में तैनाती दी गई।

अधिकारी बोलने को नही तैयार :- अपनी समस्या लेकर पहुंचे 108 एंबुलेंस चालक और परिचालक की समस्या को सुनने वाला कोई नहीं है। इस मामले को लेकर जिले के अधिकारियों से बात की गई कोई भी अधिकारी बोलने को तैयार नहीं है।

coronavirus
Show More
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned