उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ व्रतियों ने छठ मैया का प्रसाद ग्रहण तोड़ा व्रत

-भक्तों ने नदी, जलाशयों पर सुबह-सुबह पहुंचकर उदय होते सूर्य को अर्घ्य दिया
-सूर्यदेव की आराधना व लोक आस्था का पर्व छठ महापर्व का समापन

By: Mahendra Pratap

Published: 21 Nov 2020, 10:44 AM IST

मथुरा. सूर्यदेव की आराधना व लोक आस्था का पर्व, छठ महापर्व पर शनिवार सुबह व्रतियों ने उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दिया। अर्घ्य देने के साथ उपवास रखने वाले छठ व्रतियों ने छठ मैया का प्रसाद ग्रहण कर व्रत तोड़ा। और इसी के साथ चार दिनों तक चले छठ पर्व का समापन हो गया। कोविड-19 के चलते अबकी वर्ष छठ महापर्व को अधिकांश लोगों ने अपने-अपने घरों में रहकर मनाया गया है, पिछले वर्ष तक रिफाइनरी क्षेत्र में मथुरा रिफाइनरी नगर स्थित नगर चौपाल में यह पर्व हजारों भक्तों की संख्या में बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाता रहा है।

छठ पूजा का प्रारंभ दो दिन पूर्व चतुर्थी तिथि को नहाय खाय से होता है, फिर पंचमी को लोहंडा और खरना होता है। उसके बाद षष्ठी तिथि को यानि आज शनिवार का छठ पूजा के बाद समापन हुआ। छठ पूजा में सूर्य देव को शाम का अर्घ्य अर्पित किया जाता है और सप्तमी को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य अर्पित किया जाता है। हिंदुओं के सबसे बड़े पर्व दीपावली को त्यौहारों की माला माना जाता है, दीपावली के बाद चौथे दिन से छठ पर्व की शुरूआत नहाय-खाय से होती है जो सप्तमी के दिन उगते हुए सूर्योदय को अर्घ्य देते हुए पारण कर व्रत को पूरा करते हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश और खासकर बिहार, झारखंड में मनाया जाने वाला ये पर्व काफी खास है, इसे पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है।

छठ महापर्व के अनुष्ठान कठोर हैं। चार दिनों की अवधि में मनाए जाते हैं। इनमें पवित्र स्नान, उपवास और पीने के पानी (वृत्ता) से दूर रहना, लंबे समय तक पानी में खड़ा होना, और प्रसाद (प्रार्थना प्रसाद) और अर्घ्य देना शामिल है। परवातिन नामक मुख्य उपासक (संस्कृत पार्व से, जिसका मतलब 'अवसर' या 'त्यौहार') आमतौर पर महिलाएं होती हैं। पर्यावरणविदों का दावा है कि छठ सबसे पर्यावरण-अनुकूल हिंदू त्यौहार है। छठ पूजा सूर्य देव की आराधना और संतान के सुखी जीवन की कामना के लिए समर्पित हर वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को होती है।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned