श्रमिक की समस्याओं के लिए दिया एसडीएम को ज्ञापन

तुलाराम शर्मा ने एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 25 Jan 2018, 06:20 PM IST

मथुरा। पत्थर खदान, ईंट भट्टा, भवन निर्माण एवं सन्निमार्ण, घरेलू कामगार, वेल्डर, कृषि कामगार, मिट्टी का काम करने वाले, रिक्शा चालक आदि के अलावा असंगठित क्षेत्र कामगारों के हितों के लिए 11 सूत्रीय मागों को लेकर उत्तर प्रदेश ग्रामीण मजदूर संगठन के संस्थापक अध्यक्ष तुलाराम शर्मा ने एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

ये भी पढ़ें -

ब्रिटिश शासन में अंग्रेज फौज के सामने लाल किले की प्राचीर पर फहराया गया था तिरंगा

यूपी दिवस: ताजमहल के शहर आगरा को बड़ी सौगात, एक वर्ष में सूरत बदलने का दावा

दिया गया ज्ञापन
प्रदेशस्तरीय श्रमिक जागरुकता अभियान के तहत एसडीएम हरी शंकर यादव को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई कि पत्थर खदान श्रमिकों के लिए सिलिकोशिस वेल फेयर बोर्ड स्वास्थ्य केन्द्र की स्थापना की जाए। ठेकेदारी प्रथा समाप्त करने, प्रत्येक ग्राम स्तर पर लघु सचिवालय स्थापित करने, असंगठित क्षेत्र की महिलाओं को समान काम का समान वेतन देने, प्रत्येक लेवर चौकों पर श्रमिक सहायता केन्द्र स्थापित एवं शौचालय व पेयजल व्यवस्था करने। भवन एवं सन्निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड में रजिस्ट्रेशन प्रत्येक ब्लॉक स्तर पर काराने की मांग की।

ये भी पढ़ें-

जनवरी के अंत में जानलेवा सर्दी, तापमान @7.2 डिग्री सेल्सियस, जानिए क्या रहेगा आगे मौसम का हाल

शहीद बाबा दीप सिंह का प्रकाशपर्व 26 को, यहां होगा बड़ा आयोजन

बाल श्रमिकों को मिले उनका अधिकार
इसके साथ ही बाल श्रमिकों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए ठोस रणनीति बनाई जाए। एसडीएम ने तुलाराम शर्मा द्वारा मुख्यमंत्री के नाम दिए गए ज्ञापन को स्वीकार करते हुए आश्वासन दिया, कि इस ज्ञापन को सरकार तक पहुंचाया जाएगा। इस अवसर पर हरी सिंह सविता, ओमप्रकाश गोला, जगदीश चन्द्र आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें -

यूपी दिवस: मंच से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी ने कुछ ऐसा कहा, कि बदल गया नेताओं के चेहरे का रंग

इस मौसम से आलू किसान चिंतित, गेहूं की खेती करने वाले किसानों में खुशी, जानिए कारण

धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned