कान्हा के जन्म के बाद गोकुल में नंदोत्सव हुआ शुरू, कृष्ण भक्ति में डूबे श्रद्धालु

कान्हा के जन्म के बाद गोकुल में नंदोत्सव हुआ शुरू, कृष्ण भक्ति में डूबे श्रद्धालु

Dhirendra yadav | Publish: Sep, 04 2018 10:31:53 AM (IST) Mathura, Uttar Pradesh, India

नंदगांव में सुबह से ही भव्य नजारा देखने को मिल रहा है।

मथुरा। मथुरा में जन्म लेने के बाद कन्हैया गोकुल पहुंच गये हैं, जिसके साथ ही मंगलवार सुबह से गोकुल में नंदोत्सव शुरू हो गया। नंदगांव में सुबह से ही भव्य नजारा देखने को मिल रहा है। नंद के लाला के आने की खुशी में नंदगांव वासी एक-दूसरे को जन्मोत्सव की बधाई दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें - Krishna Janmashtami श्रीकृष्ण के जन्म के कुछ घंटों बाद हुआ था इस शहर का जन्म, पढ़िए ‘बृज की देहरी’ के बारे में रोचक कथा

बाल गोपाल के किये दर्शन
गोकुल में सुबह से ही बड़ी संख्या में भक्त पहुंचना शुरू हो गये। सुबह सात बजे से नौ बजे तक झूला-पालना व जन्मोत्सव के दर्शन भक्तों को हुये, जिसके बाद भगवान श्रीकृष्ण-बलराम के स्वरूपों का मंदिर में आगमन हुआ, इसके साथ ही नंदोत्सव का उल्लास छाने लगा। इसके बाद भक्तों के कंधे पर सवार होकर भइकुर जी नंदचौक पहुंच रहे हैं, जहां विशाल नंदोत्सव मनाया जायेगा।

ये भी पढ़ें - Krishna Janmashtami कृष्ण की भक्ति में राधा बने इंजीनियर, नृत्य का वीडियो देखते रह जाएंगे

लाला की छीछी का होगा वितरण
गोकुल में नंदोत्सव का आनंद लेने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को लाला की छीछी का वितरण होगा। लाला की छीछी यानि दही व हल्दी के मिश्रण युक्त प्रसाद की भी प्राप्ति होगी। यहां का यह क्षण अद्वितीय होता है। इसकी एक-एक छीटें पाने को भक्त लालायित दिखाई देते हैं। मंदिर प्रबंधन द्वारा वृहद स्तर पर यह मिश्रण तैयार कराया गया है। मंदिर सेवायत मथुरा दास पुजारी ने बताया कि कान्हा के जन्म के बाद गोकुल कृष्णमय हो गया है।

ये भी पढ़ें - श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेषः सुहागनगरी की जिला जेल में "देवकी" के साथ बंद हैं "बाल गोपाल", जानिए वजह

 

ये भी पढ़ें - जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण शोभायात्रा को लेकर कासगंज में तनाव, छावनी बना शहर, देखें वीडियो

ये भी पढ़ें - जन्माष्टमी पर कृष्ण जन्म से पूर्व हुई विशेष आरती, देखें वीडियो

 

Ad Block is Banned