बिहार की बक्सर जेल में बने मनीला रस्से से दी जाएगी शबनम को फाँसी

- अमरोहा कांड की आरोपी को मथुरा जेल में दी जाएगी फाँसी
- बिहार की बक्सर जेल में फाँसी के फंदे किये जा रहे है तैयार
- शबनम को फाँसी देने से पूर्व की जाएगी जेल में रिहर्सल
- प्रेमी के साथ मिलकर परिजनों की कुल्हाड़ी से काटकर की थी हत्या

By: arun rawat

Published: 17 Feb 2021, 03:32 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क


मथुरा. उत्तर प्रदेश के अमरोहा की रहने वाली महिला शबनम (कैदी) को मथुरा की जेल में फांसी पर लटकाया जाएगा। आपको बता दें कि मथुरा स्थित उत्तर प्रदेश के इकलौते महिला फांसी घर में शबनम को मौत की सजा दी जाएगी। वहीं जेल प्रशासन ने इसके लिए इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी है। निर्भया के आरोपियों को फांसी पर लटकाने वाले मेरठ के पवन जल्लाद भी दो बार फांसी घर का निरीक्षण कर चुके हैं। हालांकि फांसी की तारीख अभी तय नहीं हुई है।

 

बता दें कि अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अप्रैल 2008 में प्रेमी के साथ मिलकर अपने सात परिजनों की कुल्हाड़ी से काटकर बेरहमी से हत्या कर दी थी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शबनम की फांसी की सजा बरकरार रखी थी। राष्ट्रपति ने भी उसकी दया याचिका खारिज कर दी है। लिहाजा आजादी के बाद शबनम पहली महिला कैदी होगी जिसे फांसी पर लटकाया जाएगा। मथुरा में जिला कारागार के अंदर 150 साल पहले महिला फांसी घर बनाया गया था। लेकिन आजादी के बाद से अब तक किसी भी महिला को फांसी की सजा नहीं दी गई। वरिष्ठ जेल अधीक्षक शैलेंद्र कुमार मैत्रेय ने बताया कि अभी फांसी की तारीख तय नहीं है, लेकिन हमने तैयारी शुरू कर दी है। डेथ वारंट जारी होते ही शबनम को फांसी दे दी जाएगी।


बताया ये भी गया है की जिस दिन शबनम को फाँसी दी जाएगी उस फांसी के फंदे को बिहार से मंगाई गयी रस्सी से तैयार किया गया है। शबनम को फांसी देने के लिए जो फंदा तैयार कराया जा रहा है वह बक्सर जेल से आएगा। जिला कारागार के प्रशासन ने 1 इंच व्यास मोटे दो रस्सों का आर्डर फांसी का फंदा बनाने के लिए दिया है। 24 फीट लंबे रास्ते की कीमत तकरीबन 1643 रूपये है शबनम के लिए दो फंदे तैयार कराए जा रहे हैं जिनकी कीमत तकरीबन 3286 रुपए आंकी जा रही है।


जेल अधीक्षक के मुताबिक पवन जल्लाद दो बार फांसीघर का निरिक्षण कर चुका है। उसे तख्ता-लीवर में कमी दिखी, जिसे ठीक करवाया जा रहा है। बिहार के बक्सर से फांसी के लिए रस्सी मंगवाई जा रही है। अगर अंतिम समय में कोई अड़चन नहीं आई तो शबनम पहली महिला होंगी जिसे आजादी के बाद फांसी की सजा होगी।

By - Nirmal Rajpoot

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned