शिक्षक की बेटी का भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में हुआ चयन, परिजनों ने मिठाई खिला कर दी बधाई

- शिक्षक की बेटी ने किया जिले का नाम रोशन

- वैज्ञानिक बन अवंतिका गौतम करेंगे देश की सेवा

- परिजनों ने मिठाई खिलाकर दी बेटी अवंतिका को बधाई

- पीएचडी छोड़ देश सेवा में जाने का लिया फ़ैसला

- वैज्ञानिक बनने के बाद बधाईयों का दौर लगातार जारी

- अवंतिका के पिता पेशे से है शिक्षक

By: arun rawat

Published: 09 Jan 2021, 12:27 PM IST

निर्मल राजपूत

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क मथुरा. जिले की बेटी ने एक बार फिर अपने जिले का नाम रोशन किया है। बेटी ने कड़ी मेहनत कर देश के प्रख्यात भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में अवंतिका का चयन परमाणु वैज्ञानिक के पद पर हुआ है। परिवार में खुशी का माहौल है और सभी ने बेटी अवंतिका को मिठाई खिलाकर उसे बधाई दी। अवंतिका ने पीएचडी की पढ़ाई छोड़ कर देश की सेवा करने का निश्चय किया। बेटी ने देश सेवा को सर्वोपरि बताया।

बदलते हुए दौर में लड़कियां लड़कों से पीछे नहीं है और लगातार लड़कों को लड़कियां पीछे छोड़ती जा रही है। कान्हा की नगरी की ऐसी ही एक बेटी है अवंतिका गौतम, अवंतिका ने मुम्बई स्थित भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र का एग्जाम दिया और एग्जाम देने के बाद आए रिजल्ट में उसकी दुनिया ही बदल दी। परिवार में खुशी का माहौल है और सभी ने बेटी अवंतिका को मिठाई खिलाकर और फूल माला पहनाकर भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में चयन होने पर बधाई दी। अवंतिका के पिता पेशे से एक प्राईवेट शिक्षक हैं और बच्चों को सच्ची राह पर चलने के लिए लगातार प्रोत्साहित करते हैं। कड़ी मेहनत और लगन से उन्होंने अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा के साथ-साथ अच्छे संस्कार भी दिए हैं। अवंतिका गौतम को भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में चयन होने के बाद लगातार उसे बधाइयों का दौर जारी है।


वही अवंतिका गौतम ने इस सफलता का श्रेय अपने परिवार को दिया और उन्होंने कहा कि जिस तरह से परिवार ने मुझे अच्छी परवरिश दी और इस मुकाम तक मुझे पहुंचाया मुझे गर्व है अपने परिवार पर।उन्होंने बताया कि मैंने एग्जाम दिया था और वार्क के लिए शॉर्टलिस्ट हुई। 16 दिसंबर को मुंबई इंटरव्यू देने गई। 5 जनवरी को अवंतिका का सेलेक्शन ट्रेनिंग सेंटफिक ऑफिसर के पद पर हुआ है। अवंतिका ने बताया कि दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीएससी ऑनर्स फिजिक्स से की। आईआईटी जैम दिया था उस वेश पर आईआईटी ( ITI ) दिल्ली के लिए चुनी गई मास्टर्स के लिए। उन्होंने बताया कि 2020 में मास्टर कंप्लीट होने के बाद यह एग्जाम दिया था।


अवंतिका के पिता मनोज गौतम ने बताया कि अवंतिका की प्राथमिक शिक्षा मुकुंदपुर रोड स्थित एक प्राइवेट स्कूल से हुई। 2009 में सातवीं कक्षा में अवंतिका का एडमिशन शहर के रतन लाल फूल कटोरी स्कूल में कराया और इसी स्कूल से दसवीं की परीक्षा उसने 98 प्रतिशत अंक लाकर पास किया 2013 में। 2015 में अवंतिका ने बारहवीं की परीक्षा को 95 प्रतिशत अंक लाकर उत्तरीन किया। उन्होंने बताया कि बेटी पीसीएम (PCM) में 97 प्रतिशत अंक लेकर आयी। गौतम आगे बताते हुए कहते हैं 2015 से और 2018 तक उसने अपनी ग्रेजुएशन कंप्लीट कर ली थी और आईआईटी जैम के बाद दिल्ली से एमएससी ( MSC ) किया।


आगे उन्होंने बताया कि भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में ऑल इंडिया 37 वीं रैंक अवंतिका ने प्राप्त की थी। 1 फरवरी 2020 को इसका एग्जाम हुआ था। 17 नवंबर को यह चुनी गई। वही 16 दिसंबर 2020 को इस का इंटरव्यू हुआ उस इंटरव्यू के जरिए इस को शॉर्टलिस्ट किया गया। 5 जनवरी 2021 को हमें यह पता चला कि अवंतिका का चयन मुंबई के भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में एक वैज्ञानिक के पद पर हुआ है। उन्होंने यह भी बताया कि इस एग्जाम से पहले एनटीयू ( NTU ) सिंगापुर तथा नेट जे आर एफ़ का चयन हुआ था। बेटी ने सिंगापुर न जाकर अपने देश मे ही रहकर देश की सेवा करने का निश्चय किया। अवंतिका घर में मोहित , जय और गिरीश तीनों भाईयों से छोटी है। घर के सभी लोगों का प्यार अवंतिका के ऊपर ही रहता है। अवंतिका की माता प्रभा गौतम ने बेटी को बधाई देने के साथ उसके उज्जवल भविष्य की कामना की।

बता दें कि टूकी राम गौतम के बेटे मनोज गौतम मूल रूप से मथुरा जिले के गांव रानेहरा के रहने बाले है। गॉव में अच्छा स्कूल ना होने के कारण उन्होंने 20 साल पहले अपने गांव को छोड़ दिया और मथुरा में 20 साल से रह कर अपने परिवार को अच्छी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करा रहे हैं। साथ ही परिवार में सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा और एक उज्जवल भविष्य देने की मनोज गौतम ने ठानी है। मनोज गौतम का बड़ा बेटा मोहित गौतम पेशे से (NTPC ) में इंजीनियर है और इन दिनों तलंगाना में कार्यरत है।

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned