DM आफिस में रिश्वत लेते बाबू की तस्वीरें कैमरे में कैद, कहा- जिलाधिकारी के खाते में जाती है घूसखोरी की रकम

अपने ऊपर आरोप लगने के बाद आनन-फानन में जिलाधिकारी ने आरोपी को सस्पेंड किया

By: Ashish Shukla

Published: 25 Apr 2018, 03:45 PM IST

मऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही भ्रष्टाचार समाप्त करने की बात कर हों। लेकिन जमीनी हकीकत कुछ ही है। भ्रष्टाचार चरम पर है जनता की सरकार कहे जाने वाले योगी राज छोटे-छोटे काम के लिए भी जनता से पैसे लिये जा रहे हैं। ये हम नहीं हमारे कैमरे में कैद कुछ तस्वीरें बयां कर रही हैं।

जी हां मऊ का जिलाधिकारी कार्यालय। यहां फैजुल रहमान नाम का लिपिक तैनात है। जिसका काम हैसियत प्रमाण पत्र बनाने का है। लिपिक साहब हैसियत प्रमाणपत्र बनाने के नाम पर जमकर उगाही कर रहे हैं और इस उगाही का वीडियो कैमरे में कैद होते ही पूरे प्रशासन में खलबली मची हुई है। इतना ही नहीं खुलेआम घुसखोरी करते पकड़ने जाने पर लिपिक ने जो खुलासा किया वह चौंकाने वाला है। फैजुल रहमान ने कहा कि डीएम घूस लेने के लिए कहते हैं ये पैसा डीएम साहब के खाते में ही जाता है।

इतना ही नहीं कैमरे के सामने ही ये लिपिक अपनी ही तारीफ करने लगा कहा कि हमारी मेहनत देख सभी अधिकारी खुश रहते हैं। जिलाधिकारी , अपर जिलाधिकारी व उपजिलाधिकारी सहित तमाम अधिकारी सब मुझसे खुश हैं। जो व्यक्ति अपने ख़ुशी से पैसे देता है तो उसे ले लेते है और जो नही देता है तो उससे कुछ नही कहते है | ये पूरा मामला जिलाधिकारी प्रकाश बिंदु के संज्ञान में है |

लिपिक द्वारा घुस लेने के मामले में एक स्थानीय निवासी ने बताया की जो वीडियो वायरल हुआ है वो सत्य है और ये बाबू हैसियत प्रमाण पत्र बनाने के लिए काफी पैसे लेता है। इसमें जिलाधिकारी व अपरजिलाधिकारी के संज्ञान में है या नहीं लेकिन ये बाबू बिना रुपये लिए काम नहीं करता है।

घुस लेकर हैसियत प्रमाण पत्र जारी करने वाले लिपिक का वीडियो जैसे ही वाइरल हुआ तो जिलाधिकारी ने तत्काल आनन फानन में लिपिक को सस्पेंड कर कार्यवाई कर दिया । लेकिन हैरान करने वाली बात ये है क्या इस कदर का भ्रष्टाचार वो बिनी किसी की सह पर कर रहा था।

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned