scriptFather's funeral pyre left on the second day of daughter's farewell | बेटी की विदाई के दूसरे दिन ही पिता की उठ गई अर्थी | Patrika News

बेटी की विदाई के दूसरे दिन ही पिता की उठ गई अर्थी

locationमऊPublished: Feb 04, 2024 08:18:33 pm

Submitted by:

Abhishek Singh

Murder News: दोहरीघाट थाना क्षेत्र के बड़की बारी गांव में बेटी की विदाई के दूसरे दिन ही पिता की अर्थी उठ गई। शराब की बुरी लत में बेटे ने पिता की हत्या कर दी। गुरुवार को मृतक की बेटी की विदाई थी। शुक्रवार को बेटी की विदाई के बाद परिवार थका हुआ था। तभी घर का बड़ा बेटा दारू के नशे में धुत होकर घर पहुंचा।

hatyayu.jpg
हत्याकांड
मऊ जनपद के दोहरीघाट थाना क्षेत्र के बड़की बारी गांव में बेटी की विदाई के दूसरे दिन ही पिता की अर्थी उठ गई।
शराब की बुरी लत में बेटे ने पिता की हत्या कर दी। गुरुवार को मृतक की बेटी की विदाई थी। शुक्रवार को बेटी की विदाई के बाद परिवार थका हुआ था। तभी घर का बड़ा बेटा दारू के नशे में धुत होकर घर पहुंचा। किसी बात पर छोटे भाई से बड़े भाई का विवाद होने लगा। इसी बीच पिता जीता यादव ने बीच बचाव शुरू कर दिया। तभी गुस्साए बड़े बेटे अखिलेश ने चाकू घोंप करके पिता की हत्या कर दी। हत्या की सूचना पर पहुंची पुलिस ने हत्यारे की मां की तहरीर पर मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।
मृतक जीता बेहद गरीब था और फूस से बनी झोपड़ी में अपनी पत्नी और पूरे परिवार के साथ रहता था। आरोपी हत्यारे की पत्नी ने बताया कि कभी नहीं सोचे थे कि ऐसा हो जायेगा। पापा जी और मेरे पति ही घर के कमाऊ सदस्य थे। पापा जी तो अब रहे नहीं और पति भी जेल में है। ऐसे में मेरा और मेरे 3 बच्चे अब कैसे अपना जीवन यापन करेंगे। आरोपी की पत्नी ने बताया कि सरकार की तरफ से चल रही किसी योजना का उसे लाभ नहीं मिल पाया है। हमारा पूरा परिवार झोपड़ी में रहता है। न तो हमे कोई आवास मिला है न ही हमारा कोई आयुष्मान कार्ड बना हुआ है। उसने बताया कि कुछ लोगों ने मेरे पति के ऊपर जादू टोना कर दिया है,जिससे उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं रहती। जब तक दवा चलती तब तक सब सही रहता है, जैसे ही दवा खत्म होती उनका मानसिक संतुलन गड़बड़ा जाता है।

उधर ग्रामीणों से बात करने पर अनलोगों ने बताया कि अखिलेश आए दिन सबसे झगड़ा करता रहता था। वो हमेशा शराब पी कर परिवार में भी लड़ाई करता रहता था। दोपहर 12 बजे किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ जिसमे बड़े पुत्र अखिलेश यादव ने अपने पिता जीता यादव की हत्या कर दी। इस संबंध में क्षेत्राधिकारी गणेश दत्त मिश्रा का कहना है कि मृतक जीता यादव का अपने छोटे पुत्र रामप्रवेश यादव से किसी मामूली बात को लेकर बहस हो रही थी इसी बीच बड़े पुत्र अखिलेश यादव ने सब्जी काटने के चाकू से पिता के सीने पर वार कर दिया। सीना छलनी होने से जीता यादव की मौके पर ही मौत हो गई।

ट्रेंडिंग वीडियो