मऊ में मिला कालाजार का रोगी, मचा हड़कम्प

Sarveshwari Mishra

Publish: Dec, 08 2017 09:44:42 (IST)

Mau, Uttar Pradesh, India
मऊ में मिला कालाजार का रोगी, मचा हड़कम्प

सूचना पाकर मौके पर पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम, दिया ये निर्देश

मऊ. यूपी के मऊ जिले के रतनपुरा में कालाजार (काला ज्वर) का पहला मरीज पाए जाने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। सूचना पाकर गुरुवार को जिले से सीडीओ के नेतृत्व में विभाग की पूरी टीम स्थानीय क्षेत्र के जमीनसहरूल्ला (बभनौली) में पहुंच गई। टीम में लखनऊ से आए दो विशेषज्ञ चिकित्सकों ने भी बीमारी की पुष्टि की।

 

 

 

बतादें कि जमीन सहरूल्ला (बभनौली) ग्राम पंचायत निवासी 40 वर्षीय सुंदरवासी पत्नी ओमकार पांडेय काला ज्वर से पीड़ित हैं। उनका मायका बिहार प्रांत के बक्सर में है। वहीं गत कुछ वर्षों से वे इस रोग से पीड़ित थीं। लगभग 8 माह पूर्व अपने मायके बक्सर से ससुराल जमीनसहरूल्ला (बभनौली आई हुई हैं। उनकी हालत देख बीमारी के बारे में गांव की आशा बहू ने स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डा. हंसराज सोनी, खंड स्वास्थ्य शिक्षाधिकारी विपिन कुमार शर्मा को जानकारी दी। सूचना पर सीएमओ डॉ. सतीशचंद्र ¨सह, लखनऊ से विशेषज्ञ डा. आरके पटेल एवं डा. बीपी ¨सह के साथ पूरी टीम लेकर पहुंचे। इस रोग का और प्रसार न हो, इस निमित्त स्थानीय लोगो को जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

 

 

ऐसे होता है काला ज्वर
सामुदायिक स्वास्थय केंद्र के अधीक्षक डा. हंसराज सोनी ने बताया कि काला ज्वर एक विशेष प्रकार के मच्छर सेन्डफ्लाई के काटने से होता है। यह मच्छर अत्यन्त ही सूक्ष्म आकार का होता है। धूप में उसके पंख चमकते हैं। यह नमी वाले स्थान पर ही रहता है। सूक्ष्म आकार के नाते व मच्छरदानी में भी प्रवेश कर जाता है। उसके काटने से ही काला ज्वर होता है। इस बुखार में मरीज का शरीर काला पड़ने लगता है।

 

 

साफ सफाई का रखे ध्यान
डा. सोनी ने बताया कि इस रोग से बचने के लिए आवश्यक है कि घर के अंदर और बाहर विशेष साफ-सफाई रखी जाए और ऐसा कपड़े पहनें जिससे पूरा शरीर ढका रहे। यदि दो सप्ताह से बुखार आ रहा है तथा किसी भी दवा से ठीक नहीं हो रहा है। वजन घट रहा है, पेट निकल रहा है, तिल्ली बढ़ रही है तो यह काला ज्वर के लक्षण हैं। तत्काल चिकित्सक से सम्पर्क करें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned