scriptmadhuban mahotsav green madhuban project from mau kathghara shankar | मऊ में मधुबन महोत्सव : खाली जमीनों को हरित पट्टियों में तब्दील करने का लक्ष्य, सबने सीखे पर्यावरण के संस्कार | Patrika News

मऊ में मधुबन महोत्सव : खाली जमीनों को हरित पट्टियों में तब्दील करने का लक्ष्य, सबने सीखे पर्यावरण के संस्कार

26 से 28 नवम्बर तक चले इस महोत्सव की शुरुआत पौधारोपण के साथ की गई। पीपल बाबा की टीम ने रजिस्ट्रेशन फॉर प्लांटेशन कार्यक्रम के जरिये लोगों से पौधे लगाने के लिए एंट्री ली और बाद में मधुबन क्षेत्र में पौधारोपण किया गया। इस महोत्सव में स्कूलों के बच्चों और उनके शिक्षकों को पर्यावरण के संस्कार सिखाये गए।

मऊ

Updated: December 02, 2021 06:21:44 am

मऊ. जनपद के कठघरा शंकर गांव से मधुबन महोत्सव की शुरुआत हुई। महोत्सव में सभी दलों और सामाजिक संगठनों के लोग शामिल हुए। इसे एक अनोखी शुरुआत माना जा रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने इस महोत्सव का उद्घाटन किया जबकि पीपल बाबा की संस्था 'गिव मी ट्रीज' ने बड़े स्तर पर पौधारोपण किया। पीपल बाबा हरियाणा के गुरुग्राम में पीपल और बरगद की दुनिया की सबसे बड़ी नर्सरी बना रहे हैं। 26 से 28 नवम्बर तक चले इस महोत्सव की शुरुआत पौधारोपण के साथ की गई। पीपल बाबा की टीम ने रजिस्ट्रेशन फॉर प्लांटेशन कार्यक्रम के जरिये लोगों से पौधे लगाने के लिए एंट्री ली और बाद में मधुबन क्षेत्र में पौधारोपण किया गया। इस महोत्सव में स्कूलों के बच्चों और उनके शिक्षकों को पर्यावरण के संस्कार सिखाये गए। जहां भी प्लांटेशन का कार्य किया गया, वहां क्षेत्रीय लोगों को लगाये गए पौधों के देखभाल की जिम्मेदारी दी गई। इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने कहा कि जहां कहीं भी देश में लोगों को जोड़ने और खुद जुड़कर कार्य करने की जरूरत होगी, वहां वह हमेशा पहुंचेंगे और सहयोग देंगे।
madhuban.jpg
खाली जमीनों को हरित पट्टियों में तब्दील करने का लक्ष्य
पीपल बाबा ने हरित मधुबन प्रोजेक्ट की शुरुआत कठघरा शंकर गांव के शहीद स्मारक में पौधारोपण करके की। इस अभियान के जरिये 5 साल में इस पूरे क्षेत्र की खाली जमीनों को हरित पट्टियों में तब्दील करके आबोहवा को स्वास्थ्यवर्धक बना दिया जायेगा। पीपल बाबा ने यह कहा कि देश में ऑक्सीजन की कमी से ढेर सारी दिक्कतें उभर कर आ रही हैं। इसे पूरा करने के लिए उन्होंने प्लांटेशन को अपना फुल टाइम पेशा बनाया है। देश का हर नागरिक अगर प्लांटेशन और मेन्टेनेन्स के साथ अगर जुड़ जाए तो यह समस्या पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी।
स्टूडेंट्स को दिये सफलता के मंत्र
राष्ट्रीय हिंदी एकता मिशन के अध्यक्ष राणा सिंह अपनी पूरी टीम के साथ मधुबन महोत्सव में हिस्सा लेने आये और हिंदी पढ़ने वाले बच्चों को सफलता के टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि देश के कई राज्य राष्ट्रीय भाषा को अब तक प्रमोट नहीं कर सके हैं। हिंदी को लोग अंग्रेजी के आगे कमजोर मानते हैं लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है।
madhuban1.jpg'सबके सहयोग से बनेगा नया मधुबन'
मधुबन महोत्सव का आयोजन रणनीतिकार बद्रीनाथ ने किया। उन्होंने कहा कि यह एक शुरुआत थी, जिसमें सभी दलों और दिलों की दूरियां मिटाकर एक साथ ले चलने का कार्य किया गया। इससे देश के मुख्य सामाजिक संगठनों को भी जोड़ा जायेगा और सबके सहयोग से नया मधुबन बनाया जायेगा। इस दौरान अखिल भारतीय पंचायत परिषद के कार्यवाहक अध्यक्ष अशोक चौहान, महामंत्री ध्यान पाल सिंह जादौन, प्रदेश अध्यक्ष अशोक सिंह जादौन मौजूद रहे।
madhuban2.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.