मुख्तार अंसारी की कोर्ट से गुहार, मच्छरदानी कूलर तो मिला, घरवालों से बात नहीं करने दे रहा जेल प्रशासन

मुख्तार अंसारी की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये मऊ कोर्ट में पेशी हुई। पेशी के दौरान मुख्तार अंसारी ने शिकायत किया कि उन्हें मानक के अनुरूप जेल में सुविधाएं नहीं मिल रहीं।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मऊ. बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी की जेल प्रशासन को लेकर शिकायतें अभी खत्म नहीं हुई हैं। मुख्तार अंसारी ने एक बार फिर अपनी वर्चुअल पेशी के दौरान जेल प्रशासन के रवैये की कोर्ट से शिकायत की। उन्होंने कोर्ट से कहा कि कूलर और मच्छरदानी तो उन्हें दे दी गई है, लेकिन न तो परिजनों से बात कराई जा रही है और न ही उनके वकील से। मुख्तार ने कहा कि कोविड के चलते मुलाकात बंद है, लेकिन शासन के सामान्य आदेश के तहत पीसीओ से उनके परिजनों से बात कराई जा सकती है।


मुख्तार अंसारी ने एक बार फिर आरोप लगाया कि जेल में उन्हें जो सुविधाएं मिलनी चाहिये वो नहीं मिल पा रही। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मेडिकल बोर्ड द्वारा की गई जांच में डाॅक्टरों की सलाह का पालन भी जेल अधीक्षक द्वारा न कराए जाने का आरोप लगाया। न्यायिक मजिस्ट्रेट उत्कर्ष सिंह ने मुख्तार अंसारी के वकील दरोगा सिंह और अभियोजन अधिकारी के तर्कों को सुनने के बाद अगली सुनवाई 26 मई को तय की।


बताते चलें कि मुख्तार अंसारी को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पंजाब की जेल से लाकर उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद किया गया है। यहां से उनपर दर्ज मुकदमों की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई की जा रही है। मऊ के दक्षिण टोला थाने में फर्जीवाड़ा कर असलहा लाइसेंस लिये जाने के एक मामले में विधायक मुख्तार अंसारी का लेटर पैड इस्तेमाल किये जाने के आरोप में इस मुकदमें में उन्हें भी आरोपी बनाया गया है। इसी मुकदमे की सुनवाई मऊ कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये की जा रही है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned