मंत्री दारा सिंह चौहान ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा

Varanasi Uttar Pradesh

Publish: Aug, 13 2017 02:24:00 (IST)

Mau, Uttar Pradesh, India

मऊ. जिले में घाघरा नदी खतरा निशान से 23 सेंटीमीटर ऊपर बह रही हैं। घाघरा नदी के बाढ़ में हजारों एकड़ फसल पुरी तरह से जलमग्न हो गयी है। साथ ही तटवर्ती इलाकों में दहशत का माहौल बना हुआ है। कटान के कारण कृषि योग्य भूमि को बाढ में बह जा रही है। इसी सब का जायजा लेने के लिए उत्तर प्रदेश के वन व पर्यावरण मंत्री दारा सिंह चौहान ने जिलाधिकारी के साथ बाढ प्रभावित इलाकों का दौरा कर निरीक्षण किया। जिसमें डीेएम सहित सिचाई विभाग को संख्त निर्देश दिया कि बाढ़ से जनता का नुकसान नहीं होना चाहिए।

 

यह भी पढ़ें- सीएम योगी आदित्यनाथ ने अर्द्धकुंभ के लिए दिए 500 करोड़

 

दरअसल जिले में घाघरा नदी खतरा निशान को पार कर 23 सेन्टीमीटर ऊपर तक पहुच गयी हैं। जिससे जिले के दोहरीघाट ब्लाक और मधुबन ब्लाक के क्षेत्रों में कटान तेज हो गयी हैं। इसके साथ ही किसान की हजारों एकड़ गन्ना, धान आदि की फसल बाढ से जलमग्न हो गयी है। साथ ही बाढ में कृषि योग्य भूमि भी घाघरा नदी में वीलिन हो रही है। कटान रोकने की सारी कवायदें तेज कर दी गयी हैं। कटान रोकने के लिए बोल्डर आदि सामान लगाये जा रहे हैं।

 

 यह भी पढ़ें- सीएम योगी की फिसली जुबान, केंद्रीय मंत्री उमा भारती को कह दिया...

 

इसी सब का जायजा लेने के लिए वन व पर्यावरण मंत्री दारा सिंह चौहान दौरा कर बाढ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया। मंत्री ने कहा कि बाढ रोकने के लिए जो कवायदें की जा रही हैं उसे पुरी ईमानदारी के साथ किया जाये। बाढ प्रभावित किसानों ने कहा कि बाढ में हजारों एकङ फसल जलमग्न हो गयी हैं। मंत्री ने दौरा कर अधिकारीयों को निर्देश जारी किये हैं। डीएम ने कहा कि घाघरा नदी खतरा निशान से उपर बह रही हैं। इसके मद्देनजर सभी अधिकारीयों और कर्मचारीयों को पुरी तरह से मुश्तैद और सतर्क कर दिया गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned