जल्‍द ही ये सरकारी बैंक हो जाएंगे खत्‍म, जानिए अब आप कैसे निकाल सकेंगे अपने पैसे

जल्‍द ही ये सरकारी बैंक हो जाएंगे खत्‍म, जानिए अब आप कैसे निकाल सकेंगे अपने पैसे

sharad asthana | Publish: Sep, 23 2019 11:38:26 AM (IST) | Updated: Sep, 23 2019 11:43:44 AM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

Highlights

  • वित्‍तमंत्री ने 30 अगस्‍त को 10 सरकारी बैंकों के विलय की घोषणा की थी
  • बैंकों के खाताधारकों के मन में भी उठने लगे हैं कई सवाल
  • बैंक यूनियनों ने 26 और 27 सितंबर को किया है हड़ताल का ऐलान

मेरठ। वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण ने 30 अगस्‍त को 10 सरकारी बैंकों के मर्ज होने का ऐलान किया था। उनके ऐलान के बाद जहां बैंक यूनियनों ने आस्‍तीनें कस ली हैं, वहीं इन बैंकों के खाताधारकों के मन में भी कई सवाल उठने लगे हैं। उन्‍हें चिंता सता रही है क‍ि अब उनके अकाउंट का क्‍या होगा।

30 अगस्‍त को किया था ऐलान

दरअसल, वित्‍तमंत्री ने 30 अगस्‍त को 10 सरकारी बैंकों के विलय की घोषणा की थी। इससे देश में सरकारी बैंकों की संख्या 12 रह जाएगी। इसका असर इन बैंकों के उपभोक्‍ताओं पर भी असर पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: Sambhal: ATM से इस तरह सात लाख रुपये चुरा ले गए चोर- देखें वीडियाे

इन बैंकों का होगा विलय

- पंजाब नेशनल बैंक (PNB), ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (United Bank of India)

- यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank of India), आंध्रा बैंक (Andhra Bank) और कॉर्पोरेशन बैंक (Corporation Bank)

- इंडियन बैंक (Indian Bank) और इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank)

- केनरा बैंक (Canara Bank) और सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank)

बैंकों में पांच दिन नहीं होगा काम

इन बैंकों के विलय को लेकर बैंक यूनियनों हड़ताल का ऐलान कर दिया है। इसको देखते हुए 26 और 27 सितंबर को बैंक कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल पर रहेंगे। इस वजह से दो दिन बैंकों में काम नहीं होगा। मेरठ के लीड बैंक अधिकारी संजय कुमार का कहना है क‍ि बैंकों में विलय को लेकर 26 और 27 सिंतबर को बैंकों में हड़ताल रहेगी। इसके बाद चौथे शनिवार और रविवार की वजह से 28 और 29 सितंबर कोबैंक बंद रहेंगे। 30 सितंबर को हाफ ईयरली क्‍लोजिंग है, जिस वजह से उस दिन भी बैंक में काम नहीं होगा। उनका कहना है क‍ि अभी तक बैंकों के विलय से संबंधित कोई सर्कुलर नहीं आया है। कोई सूचना मिलने के बाद ही इस बारे में कुछ कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Dussehra से पहले बैंकों में हाेने जा रही है हड़ताल, केवल तीन दिन खुलेंगे बैंक

उपभोक्‍ताओं पर पड़ सकता है यह असर

- माना जा रहा है क‍ि बैंकों के विलय के बाद एक बैंक बनेगा। जैसे इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक के मर्ज होने से एक बड़ा बैंक बनेगा।

- अगर आपका अकाउंट उस बैंक का है, जो मर्ज हो रहा है तो उपभोक्‍ताओं को नई पासबुक और चेकबुक मिलेगी। मौजूदा चेकबुक की वैधता कुछ समय तक दी जा सकती है।

- बैंक अकाउंट नंबर और आईएफएससी (IFSC) कोड में बदलाव हो सकता है।

- आपको नया एटीएम कार्ड भी मिल सकता है। हालांकि, इनसे पहले बैंक अपने उपभोक्‍ताओं को इस बारे में सूचित करेंगे।

- उस बैंक का क्रेडिट कार्ड जारी हो सकता है, जिसमें बैंक का विलय होगा।

- पहले से कराई गई फिक्‍स्‍ड डिपोजिट (FD) पर कोई असर नहीं पड़ेगा। नई कराने पर ब्याज में फर्क पड़ सकता है। माना जा रहा है कि बड़े बैंक एफडी पर कम ब्‍याज देते हैं। इस वजह से ब्‍याज दर कम हो सकती है।

- कर्ज पर ब्याज दराें में बदलाव हो सकता है।

- इनकम टैक्‍स फाइल करते समय रिफंड के लिए आप अपनी खाता संख्‍या देते हैं। इसके बदलने की स्थिति में आपको उस खाता संख्‍या की जानकारी इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट को देनी होगी।

- इसके अलावा अपनी कंपनी के एचआर को भी इस बारे में सूचित करना होगा, जिससे सही खाते में वेतन आ सके।

- बैंकों की ब्रांच बढ़ जाएंगी। इससे उपभोक्‍ताओं को दूर नहीं जाना पड़ेगा। जैसे पंजाब नेशनल बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया मिलकर एक बैंक बन जाएंगे। इससे दोनों बैंकों की ब्रांच भी पीएनबी के लिए काम करेंगी। इससे इसके उपभोक्‍ताओं को फायदा होगा।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned