पश्चिमी उत्तर प्रदेश का कुख्यात 50 हजारी धर्मेेद्र किरठल देहरादून से गिरफ्तार

हत्या के 15 से अधिक मुकदमें कुख्यात पर हैं दर्ज
एसटीएफ और मेरठ पुलिस को भी काफी समय से तलाश
आईजी प्रवीण कुमार ने घोषित किया था 50 हजार का इनाम

By: shivmani tyagi

Updated: 08 Jun 2021, 04:26 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ ( Dehradun ) पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 50 हजारी कुख्यात धर्मेंद्र किरठल को देहरादून से एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ ( STF ) और मेरठ पुलिस ( Meerut Police ) को धर्मेद्र किरठल की काफी समय से तलाश थी। कुख्यात धर्मेंद्र किरठल के खिलाफ 49 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें हत्या के ही 15 से ज्यादा मुकदमे हैं। इसके अलावा लूट व रंगदारी के मुकदमे भी उसके खिलाफ दर्ज हैं जिनमें से ज्यादातर में उसकी जमानत हो चुकी है जबकि कुछ मुकदमे खत्म हो चुके हैं। बताया गया कि 28 साल पहले उसके खिलाफ लूट का पहला मुकदमा रमाला थाने में दर्ज हुआ था। इसके बाद से धर्मेंद्र किरठल लगातार अपराधिक वारदातों को अंजाम देता रहा था।

यह भी पढ़ें: यूपी में कोरोना काल में अनाथ हुए विद्यार्थियों को लैपटॉप देगी सरकार

कुख्यात धर्मेंद्र पश्चिमी यूपी के अलावा उत्तराखंड दिल्ली और हरियाणा में भी गिरोह बनाकर अपराध करता था। बीते वर्ष 12 दिसंबर को किरठल गांव में किसान इरशाद अली की चुनावी रंजिश को लेकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में धर्मेंद्र किरठल फरार चल रहा था। इससे पहले शासन के निर्देश पर पुलिस ने उसकी 60 लाख कीमत की संपत्ति कुर्क कर दी थी। बाद में आईजी प्रवीण कुमार ने उसके ऊपर 50 हजार का इनाम घोषित कर दिया था। पुलिस के अनुसार पिछले पंचायत चुनाव में धर्मेंद्र किरठल की मां सुरेश देवी जिला पंचायत सदस्य और पत्नी सुदेश देवी ग्राम प्रधान बनी थी। इस बार भी उसके परिजन चुनाव लड़ने की फिराक में थे लेकिन पुलिस के लगातार दबाव के चलते वह ऐसा नहीं कर पाए। पिछले दिनों चुनाव के दौरान धर्मेंद्र किरठल के गांव के आसपास गतिविधियों की सूचना पुलिस को मिली थी। तब पुलिस ने ड्रोन कैमरों से जंगल को खंगाला था, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला था। अब पुलिस ने इसे देहरादून से गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें: पारस अस्पताल आगरा ने किया जघन्य अपराध, कार्रवाई होगी : सिद्धार्थनाथ सिंह

यह भी पढ़ें: बदमाशों ने युवक की गोली मारकर की हत्या, पहले दी थी जान से मारने की धमकी
यह भी पढ़ें: भविष्य की चुनौतियों के अनुरूप नए विषय शामिल करें विश्वविद्यालय, सीएम ने दिए यह निर्देश

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned