पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में फर्जी ढंग से प्रशिक्षण ले रही युवती गिरफ्तार

पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में फर्जी ढंग से प्रशिक्षण ले रही युवती गिरफ्तार

Iftekhar Ahmed | Publish: Jun, 18 2019 07:26:26 PM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

  • मेरठ में पुलिस ट्रेनिंग सेंटर की सुरक्षा में सेंध
  • युवती का बेल्‍ट, टोपी और आधार कार्ड जब्त
  • गिनती में 401 की जगह 402 प्रशिक्षु मिलने से खुला मामला

मेरठ. पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में सोमवार रात फर्जी तरीके से प्रशिक्षण लेते हुए एक महिला प्रशिक्षु को गिरफ्तार किया गया। उसके पास से परिचय पत्र बेल्ट और टोपी समेत अन्य सामग्री बरामद हुई हैं। इस संबंध में पीडीएस के हवलदार मेजर ने मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस प्रशिक्षण सेंटर की सुरक्षा में सेंध लगाकर फर्जी तरीके से प्रशिक्षण ले रही महिला के पकड़े जाने से महकमे में हड़कंप मचा है।

यह भी पढ़ें: शामली में पत्रकार की पिटाई के बाद अब यूपी के इस जिले की पुलिस ने वरिष्ठ पत्रकार को फर्जी मुकदमे में फंसाया

ऐसे हुई जानकारी
पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में हवलदार मेजर के पद पर तैनात ओतारी सिंह ने बताया कि सोमवार रात करीब 8 बजे वह महिला प्रशिक्षुओं की गिनती कर रहे थे। इस दौरान 401 प्रशिक्षुओं के स्थान पर 402 प्रशिक्षु मिलीं। इसके बाद उन्होंने दोबारा गिनती की, लेकिन संख्‍या उतनी ही मिली। इस पर उन्होंने टोली नंबर 12 के कमांडर से बात की तो पता चला कि एक महिला प्रशिक्षु अवकाश के बाद बरेली से प्रशिक्षण पर आई है। बरेली के प्रतिसार निरीक्षक से जानकारी मांगी गई तो उन्‍होंने अनभिज्ञता जता दी। वार्डन उपनिरीक्षक रंजना वर्मा ने कार्यालय में पता किया तो वहां भी आमद दर्ज नहीं थी। जांच में मामला फर्जी निकला।

यह बी पढ़ें- शहीद मेजर केतन शर्मा की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब, फिजा में गूंजे ये नारे

महिला प्रशिक्षु से बेल्‍ट, टोपी समेत आधार कार्ड भी मिला
लाशी के दौरान महिला प्रशिक्षु के पास से एक परिचय पत्र, बेल्ट और टोपी समेत अन्य चीजें मिली हैं। महिला के पास प्रीति पुत्र राजकुमार निवासी जलालपुर बिजनौर का आधार कार्ड मिला है। हवलदार मेजर उतारी सिंह ने महिला के खिलाफ खरखौदा थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। महिला को हिरासत में लेकर आशा ज्योति केंद्र में पूछताछ की जा रही है।

पुलिस की मिलीभगत की आशंका
गौरतलब है कि पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में सुरक्षा के मद्देनजर कई चरणों पर छानबीन की जाती है। वहां इस प्रकार कई दिनों से फर्जी प्रशिक्षु का ट्रेनिंग लेना पुलिस सुरक्षा को ही कटहरे में खड़ा करता है। इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि इस महिला प्रशिक्षु को ट्रेनिंग दिलाने में पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय के ही किसी अधिकारी या इंस्‍टेक्‍टर का सहयोग हो। महिला प्रशिक्षु से अभी पूछताछ की जा रही है, लेकिन इस पूरे प्रकरण से पुलिस की सुरक्षा व्‍यवस्‍था पर प्रश्‍नचिंह तो लग ही गया है। साथ ही पुलिस महकमे की घोर लापरवाही भी उजागर हो गई है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned