'आप’ नेता बोले- 12 लाख मीटरों से 60 करोड़ की चोरी कर रहा बिजली विभाग

Highlights:

-सरकार ने नहीं उठाया सार्थक कदम तो सड़क पर उतरने की चेतावनी

-पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित

-आरोप कि 12 लाख मीटरों से हो रही 60 करोड़ रुपये की चोरी

By: Rahul Chauhan

Published: 02 Dec 2020, 02:40 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। स्मार्ट मीटर अब प्रदेश में राजनैतिक मुद्दा बनता जा रहा है। आम आदमी पार्टी ने इसको बदलने की मांग की है। पदाधिकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर मीटर नहीं बदले जाते हैं तो आम आदमी पार्टी सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करने को तैयार है। उन्होंने कहा कि अगर इस दिशा में जल्द ही कोई सार्थक कदम नहीं उठाया गया तो सड़क पर उतरकर विरोध करेंगे। इसके लिए पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता बैठक भी कर रहे हैं। स्मार्ट मीटर वाले उपभोक्ताओं से संपर्क भी किया जा रहा है।

दरअसल, एक बैठक का आयोजन कर आम आदमी पार्टी के जिला महासचिव ने कहा कि स्मार्ट मीटर में हुई गड़बड़ी के सभी आंकड़े सरकार के पास होने के बावजूद कोई कार्रवाई नही की जा रही है। तरह-तरह के प्रक्रियाओं का बहाना कर उपभोक्ताओं को उनके मुद्दों से भटकाने का काम किया जा रहा है। बिजली विभाग के मुताबिक उपभोक्ताओं को बिजली विभाग में शिकायत करना होगा, बिजली विभाग इसके बाद शिकायतकर्ता के घर में चेक मीटर लगाएंगे। चेक मीटर और स्मार्ट मीटर के डाटा में कोई फर्क नजर आने पर 15 दिनों के अंदर उपभोक्ताओं को 1912 पर कॉल करें। इसके बाद बिजली विभाग उपभोक्ता की समस्या का समाधान करने के लिए कदम उठाएगी।

यह भी पढ़ें: एक माह का राशन लेकर चिल्ला बॉर्डर पर जमे किसान, नोएडा-दिल्ली आने-जाने के लिए इन मार्गों का करें इस्तेमाल

उन्होंने कहा इस दावे पर का सच कुछ और ही है। प्रदेश में लगभग 12 लाख उपभोक्ताओं का बिजली बिल 30% से लेकर 100% तक बढ़ कर आता है। 1 मीटर में यदि 500—600 तक बिजली बिल पढ़कर आ रहा है तो लगभग 12 लाख मीटरों पर प्रतिमाह बिजली विभाग 60 करोड़ रुपए चोरी कर रहा है। उन्होंने कहा उपभोक्ताओं की समस्या का समाधान करने के बजाय उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री जनता के घर मीडिया को साथ लेकर उनसे पैसे वसूलने जाते है।

61 प्रतिशत उपभोक्ता कर रहे अधिक बिल आने की शिकायत :—

बिजली विभाग ने उपभोक्ताओं की शिकायतों को फर्जी करार देते हुए एक कॉल सेंटर लगाया था लेकिन उस काल सेंटर में पहले ही दिन 2230 उपभोक्ताओं ने काल शिकायत दर्ज कराया। पहले दिन के आंकड़ों की मानें तो 61% उपभोक्ताओं ने अधिक बिल आने की बात कही है 38% उपभोक्ताओं ने सही बिल आने की बात की है। कुछ और उपभोक्ताओं ने कहा कि वह स्मार्ट मीटर से संतुष्ट है।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने जिस कुत्ते का किया था जिक्र, पुलिसकर्मियों ने अर्थी सजाकर निकाली उसकी अंतिम यात्रा

महासचिव ने कहा कि हमारा दावा है कि अगर घर घर जाकर मीटर चेक किया जाए तो 99% उपभोक्ता कहेगा कि पहले बिल से ज्यादा बढ़कर बिल आ रहा है। अभिषेक द्विवेदी का आरोप है कि उत्तर प्रदेश के बिजली मीटर हत्यारे है। प्रदेश सरकार इस मीटर के जरिए उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डालने का काम तो कर ही रही है बल्कि इसके जरिए उपभोक्ताओं की हत्या करने का काम कर रही है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned