कोरोना मरीज का लावारिस में दाह संस्कार किए जाने के मामले में छह डॉक्टक पर कार्रवाई

  • प्राचार्य ने कार्रवाई के लिए लिखा डीजी हैल्थ को पत्र
  • दो सीनियर डॉक्टर की वेतनवृद्धि और तीन स्टाफ नर्स का प्रमोशन रोका
  • प्राचार्य की ओर से की गई निलंबन ओर सेवा समाप्ति की शिफारिश

By: shivmani tyagi

Updated: 13 May 2021, 11:14 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ ( meerut news ) मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमित मरीज संतोष कुमार की मौत के मामले में प्राचार्य ने छह डाक्टर-कर्मचारियों को दोषी मानते हुए कार्रवाई की है इनके निलंबन और सेवा समाप्ति किए जाने के लिए भी लिखा गया है।

यह भी पढ़ें: Patrika Positive News : केंद्र ने भी लागू किया यूपी का मॉडल कई राज्यों में भी हुई शुरूआत

प्राचार्य डॉक्टर ज्ञानेंद्र कुमार के अनुसार दो सीनियर डाक्टरों की वेतनवृद्धि रोकने हुए चेतावनी दी है। एक संविदा जूनियर डाॅक्टर का वेतन काटा हे और तीन स्टार्फ नर्स का प्रमोशन रोकते हुए वेतन काटा गया है। प्राचार्य ने बताया कि सभी की ज्वाइनिंग अथॉरिटी स्वास्थ्य निदेशालय है। इसलिए डीजी हेल्थ को कार्रवाई की संस्तुति करते हुए रिपोर्ट भेज दी है।


ये था मामला
बरेली के रहने वाले संतोष कुमार अपनी बेटी के साथ गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन में रहते थे। उनकी बेटी ने गत 21 अप्रैल को संक्रमित होने पर उन्हे मेरठ मेडिकल के कोविड वार्ड में भर्ती कराया था। 22 अप्रैल को उनकी मौत हो गई थी। संतोष कुमार के परिजनों को करीब 15 दिन बाद उनके मरने की जानकारी दी गई । प्राचार्य डॉक्टर ज्ञानेंद्र कुमार ने तीन सदस्यीय कमेटी से इसकी जांच कराई थी। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट गत बुधवार को प्राचार्य को सौंप दी थी। बुधवार को मेरठ दौरे पर आए जिले के प्रभारी मंत्री व प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने भी डीएम मेरठ से इस प्रकरण में कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे।

यह भी पढ़ें: यूपी के गांव मसवासी में हर दिन हो रही मौत, 16 दिन में उठी 15 की अर्थियां
यह भी पढ़ें: Patrika Positive News : बीमारियों की रोकथाम के लिए स्‍वच्‍छता अभियान चलाने वाला देश का पहला राज्‍य बना यूपी

Corona virus COVID-19 virus
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned