RLD की महापंचायत को नहीं मिली अनुमति, 10 कंपनी पीएसी के साथ कई जिलों की फोर्स तैनात

Highlights
- मेरठ एडीजी ने दिए मुजफ्फरनगर एसएसपी को निर्देश
- एडीजी बोले- किसी भी कीमत पर नहीं बिगड़ने दी जाएगी कानून व्यवस्था
- 10 कंपनी पीएसी के साथ कई जिलों की फोर्स भी लगाई

By: lokesh verma

Published: 08 Oct 2020, 12:16 PM IST

मुजफ्फरनगर. हाथरस में जयंत चौधरी पर लाठीचार्ज के बाद से पश्चिम उत्तर प्रदेश में जाट राजनीति सुलगने लगी है। जयंत पर लाठीचार्ज से जाट समुदाय में काफी रोष है। इसी के विरोध में आज गुरुवार को रालोद ने लोकतंत्र बचाओ महापंचायत और रैली का ऐलान किया था, जिसको लेकर मुजफ्फरनगर की अन्य जिलों से लगने वाली सीमाओं को सील कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें- रालोद की 'लोकतंत्र बचाओ' महापंचायत में दिग्गजों के पहुंचने की उम्मीद, सरकार की निगाहे लगी

मेरठ एडीजी राजीव सब्बरवाल ने बताया कि कानून व्यवस्था से किसी को खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा। कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार किसी भी प्रकार की रैली की इजाजत नहीं दी जा सकती। रैली को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड पर है। पुलिस प्रशासन द्वारा मुजफ्फरनगर से लगने वाली अन्य जिलों की सीमाओं को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। सुरक्षा की दृष्टि से बम निरोधक दस्ते एवं डॉग स्क्वायड के साथ सघनता से चेकिंग की जा रही है। पुलिस अफसर पुलिसकर्मियों को किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए तैयार रहने में जुटे हुए हैं ।

कृषि विधेयक और जयंत चौधरी पर लाठीचार्ज के विरोध में जीआईसी मैदान में होने वाली रालोद की महारैली को प्रशासन ने अनुमति नहीं दी है। कोरोना संक्रमण के चलते भारी भीड़ जुटने की आशंका के चलते अनुमति नहीं दी गई। वहीं रालोद ने भी कदम पीछे खींचने से इंकार किया है। जिसे देखते हुए पुलिस-प्रशासन और रालोद में टकराव के हालात बन सकते हैं। लोकतंत्र बचाओ रैली को लेकर रालोद और प्रशासन अपनी-अपनी तैयारियों में जुटा हुआ है। कार्यक्रम में रालोद के अलावा, कांग्रेस और सपा के नेता भी शामिल होंगे।

एडीजे राजीव सब्बरवाल ने कहा कि कानून व्यवस्था से खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा। ऐसा करने का प्रयास किया तो सख्त कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। वहीं टकराव को देखते हुए पुलिस ने भी तैयारी की है। भीड़ की आशंका के चलते मुजफ्फरनगर में छह जनपदों की पुलिस टीम के साथ गाजियाबाद और बुलंदशहर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भी तैनात किए गए हैं। इसके अलावा 10 पीएसी कंपनी के साथ बुलंदशहर, गाजियाबाद, शामली, बागपत, मेरठ और सहारनपुर से फोर्स बुलाई गई है।

यह भी पढ़ें- Hathras Caes बीजेपी नेता पूर्व विधायक पर लगे गंभीर आराेप FIR दर्ज

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned