scriptAmidst digitization, Truecaller app is the safest for women | Safe Safety App for Women : डिजिटलीकरण के बीच 'ट्रू कॉलर' सहित ये ऐप महिलाओं की सुरक्षा के कारगर हथियार | Patrika News

Safe Safety App for Women : डिजिटलीकरण के बीच 'ट्रू कॉलर' सहित ये ऐप महिलाओं की सुरक्षा के कारगर हथियार

Safe Safety App for Women डिजिटलीकरण के बीच साइबर क्राइम की घटनाएं भी सोशल प्लेटफार्म पर बढ़ रही हैं। ऐसे में महिलाओं के लिए इंटरनेट और मोबाइल पर आने वाली अनचाहे नंबर की काल असुरक्षित मानी जाती है। लेकिन ट्रू कॉलर ऐप का चलन महिलाओं के बीच काफी बढ़ रहा है। जिससे वे मोबाइल पर आने वाली अनचाही नंबर की काल्स को ट्रू कॉलर पर देखकर सजग हो जाती हैं।

मेरठ

Updated: March 05, 2022 07:42:56 pm

Safe Safety App for Women डिजिटलीकरण के ढेरों फायदे हैं, इसने सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक एवं शिक्षा के क्षेत्र में कई नए अवसर उत्पन्न किए हैं। आज पूरी दुनिया डिजिटलीकरण की ओर बढ़ रही है। इंटरनेट अब सभी के जीवन का अभिन्न हिस्सा बन गया है। आज लोग इंटरनेट पर वाद-विवाद में हिस्सा ले रहे हैं। कम्युनिटीज़ बना रहे हैं। अपने प्रोडक्ट्स बेच रहे हैं और लोकप्रियता हासिल कर रहे हैं। लेकिन बहुत सी महिलाओं के लिए इंटरनेट असुरक्षित भी है। जहां वे ऑनलाईन शोषण का शिकार हो रही हैं। ऐसे में समाज की सुरक्षा, समानता खतरे के नए मोड़ पर आकर खड़ी हो गई है।
Safe Safety App for Women : डिजिटलीकरण के बीच 'ट्रू कॉलर' सहित ये ऐप महिलाओं की सुरक्षा के कारगर हथियार
Safe Safety App for Women : डिजिटलीकरण के बीच 'ट्रू कॉलर' सहित ये ऐप महिलाओं की सुरक्षा के कारगर हथियार

अनचाहे नंबर से सतर्क कर रहा ट्रू कॉलर
डिजिटल स्पेस में भेदभाव को दूर करने का एक तरीका यह है कि ऑनलाईन स्पेस को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाएं। देश में इंटरनेट का उपयोग करने वाले 50 फीसदी यूज़र्स महिलाएं हैं, हालांकि महिलाओं के पास स्मार्टफोन्स की कमी है। लेकिन किसी भी अनचाहे नंबर से फोन आने पर महिलाएं अपनी सुरक्षा के लिए सबसे पहले ट्रू कॉलर ऐप का प्रयोग करती हैं। इस ऐप के ज़रिए अनचाहे नंबर की पहचान कर इसको ब्लॉक कर देती हैं। ट्रू कॉलर की पब्लिक अफेयर्स डायरेक्टर प्रज्ञा मिश्रा ने बताया कि ट्रू कॉलर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर काफी सजग रहता है। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर ऐप में समय—समय पर बदलाव करते रहते हैं।
यह भी पढ़े : Supreme Court order : यूपी उत्तराखंड में किराए की दुकान खाली करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला


महिलाओं की निजी सुरक्षा में ट्रू कॉलर के ज्यादा मायने
एक सर्वे के मुताबिक महिलाएं और उनकी निजी सुरक्षा ट्रुकॉलर के लिए सबसे ज़्यादा मायने रखती है। अब हर पांच में से एक महिला को यौन शोषण करने वाले फोन कॉल किए जाते हैं। हालांकि सिर्फ 12 फीसदी महिलाएं ही ऐसे मामलों में शिकायत दर्ज करती है। साफ है कि समाज में महिलाओं का शोषण किस हद तक हो रहा है। ऑफलाईन हो या ऑनलाईन, महिलाएं अपने आप को असुरक्षित महसूस करती हैं, जिसके चलते उनके आत्मविश्वास में कमी आती है। साइबर पीस फाउन्डेशन के सहयोग से अब एक और ऐप लॉच होने जा रहा है। जिसका नाम TrueCyberSafe है। यह अब सभी को ऑनलाइन होने वाले खतरों से सुरक्षा प्रदान करेगा। ट्रुकॉलर ऑनलाईन शोषण के लिए सुरक्षा का पहला स्तर बन गया है। हाल ही में महिलाओं की पर्सनल सेफ्टी ऐप गार्जियन्स भी लॉन्च किया गया। यह महिलाओं को सुरक्षित रहने में मदद करता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

कश्मीर में आतंकी हमले में टीवी एक्ट्रेस की मौत, 10 साल के भतीजे पर भी हुई फायरिंगसुरक्षा एजेंसियों ने यासीन मलिक की सजा के बाद जारी किया आतंकी हमले का अलर्टIPL 2022, LSG vs RCB Eliminator Match Result: पाटीदार के दम पर जीता RCB, नॉकआउट मुकाबले में LSG को 14 रनों से हरायाटेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.