मेरठ में हिट एंड रन केस फिर होते बचा, इस बार पुलिसकर्मियों को रौंदने की काेशिश

मेरठ में हिट एंड रन केस फिर होते बचा, इस बार पुलिसकर्मियों को रौंदने की काेशिश

Sanjay Kumar Sharma | Publish: Sep, 02 2018 11:39:57 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

सतर्कता से बच पाए पुलिसकर्मी, तीन गिरफ्तार किए

मेरठ। 29 अगस्त की रात को दिल्ली-देहरादून हाइवे पर कंटेनर के चालक ने हिट एंड रन के जरिए पांच लोगों को रौंद दिया था, इसमें 11 लोेग घायल हो गए थे। इसके तीन दिन बाद किठौर क्षेत्र में एेसा ही केस होते-होते बचा। पुलिसकर्मियों की सतर्कता से उनके साथ बड़ी दुर्घटना होने से बच गई। जरा भी चूक जाते तो उनके साथ पिकअप का ड्राइवर इस हादसे को अंजाम दे देता। देर रात्रि किठौर पुलिस वाहन चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान वहां से पशुओं से भरी एक पिकअप गुजरी। पुलिसकर्मियों ने उसे रोकने का इशारा किया, लेकिन चालक ने पिकअप को पुलिसकर्मियों के ऊपर चढ़ाने का प्रयास किया। पुलिस ने गाड़ी पकड़कर सीज कर तीन लोगों को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने जानलेवा हमला का मामला दर्ज किया है।

यह भी पढ़ेंः Meerut Hit and Run: मेरठ में कंटेनर ने 30 सेकेंड में16 को रौंदा, पांच की मौके पर ही मौत

चेकिंग के वक्त हिट का प्रयास

शनिवार देर शाम एसआई विमल कुमार थाना किठौर के सामने वाहन चेकिंग कर रहे थे। गढ़मुक्तेश्वर की ओर से आई एक बिना नम्बर की महिन्द्रा पिकअप गाड़ी का पुलिस ने रुकने का इशारा किया, परन्तु गाड़ी चालक ने रोकने के बजाय पुलिसकर्मियों पर चढ़ाने का प्रयास किया। पुलिस ने भागकर उसे पास में ही रूकवा लिया और गाड़ी में बैठे तीन लोगों जमील पुत्र रसीद, अथर पुत्र अफसर व चालक यामीन को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने पकड़ी गयी महिन्द्रा पिकअप को सीज कर थाने में खड़ा कराया, जबकि उसमें लदी भैंसों को स्वामी दूसरी गाड़ी में लाद कर ले गए। पुलिस ने घटना में जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज कर जमील व अथर को जेल भेजा, जबकि चालक को थाने से छोड़ दिया। इस सम्बंध में थाना प्रभारी आनन्द मिश्रा ने बताया कि गाड़ी सीज कर आरोपियों के खिलाफ जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज कर जेल भेज दिया है।

यह भी पढ़ेंः Meerut Hit And Run Case: एसएसपी की चल रही थी विदार्इ पार्टी, सड़कों पर पुलिस को ढूंढ़ते-ढूंढ़ते थक गर्इ पब्लिक

आरोपी चालक को छोड़ा

इस मामले में पुलिस ने चालक सहित तीन लोगों को पकड़ा, परन्तु पुलिस ने रविवार को एक आरोपी को बेगुनाह बताते हुए छोड़ दिया। साथ बैठे दूसरे लोगों को जेल भेज दिया। जेल गए दूसरे आरोपी जीमल का कहना है कि जिस तीसरे व्यक्ति यामीन को पुलिस ने थाने से छोड़ा है, वह ही गाड़ी का चालक है और स्वामी भी है। जबकि पुलिस ने गाड़ी में साथ बैठे दोनों लोगों को ही आरोपी बना जेल भेज दिया।

Ad Block is Banned