अपने को शिवपाल से बड़ा नेता बताने वाले वेस्ट यूपी के इस नेता को मिलेगा टिकट?

अपने को शिवपाल से बड़ा नेता बताने वाले वेस्ट यूपी के इस नेता को मिलेगा टिकट?
Shivpal Yadav

sandeep tomar | Publish: Jan, 01 2017 03:39:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

वेस्ट यूपी के एक नेता ने कुछ दिन पहले खुद को शिवपाल यादव से बड़ा नेता बताया था

मेरठ: भले ही समाजवादी पार्टी में मचा सियासी बवाल ठंडा पड़ गया हो। लेकिन वेस्ट यूपी में इसकी गर्माहट और भी देखने को मिल सकती है। खासकर तब जब अखिलेश के करीबी माने जाने वाले एक नेता अपने आपको शिवपाल से भी बड़ा नेता बता दिया था। अब सवाल ये सामने आ गया है कि क्या अखिलेश के इस करीबी को टिकट मिलेगा या नहीं? क्योंकि अखिलेश की सूची में तो इस नेता का नाम था लेकिन शिवपाल की लिस्ट में नहीं। अब ये भविष्य की बताएगा कि टिकटों को लेकर होने वाली सपा की मीटिंग में किस तरह के निर्णय लिये जाते हैं।

फिर जंग होगी तेज

वेस्ट यूपी में एक बार फिर से टिकटों लेकर जंग तेज होगी। जहां एक ओर शिवपाल ने कह दिया है कि टिकटों को लेकर सब लोग फिर से विचार करेंगे वहीं दूसरी ओर ऐसे दावेदारों के दिलों की धुकधुकी बढ़ गई जिनको पहले टिकट दिया जा चुका है। वहीं अब वो दावेदार भी इंतजार में हैं जिनके नाम को काटा गया था। इस जंग में जीत किसकी होगी ये तो भविष्य के गर्भ में छिपा है। लेकिन एक बात तो तय है कि ऊंट किसी भी करवट बैठे, नुकसान समाजवादी पार्टी को ही होगा।

क्या इस नेता को मिलेगा टिकट?

ताजा घटनाक्रम से एक सवाल और खड़ा हो गया है कि क्या अतुल को टिकट मिलेगा? ये सवाल दोबारा इसलिए सामने आ गया है कि क्योंकि उन्होंने कुछ दिन पहले सियासी बवाल के बीच अपने आपको शिवपाल से बड़ा नेता बता दिया था। ऐसे में अब जब चाचा भतीजे में दूरी कम हो गई है। पार्टी मीटिंग में अतुल का विरोध जरूर होगा। आपको बता दें कि अतुल प्रधान कई सालों से सरधना विधानसभा सीट से दावेदारी कर रहे हैं। लेकिन शिवपाल ने अपने करीबी पिंटू राणा को टिकट दिया हुआ है।

शहर सीट में बढ़ गई है टिकट बदलने के चांस

वहीं दूसरी ओर शहर सीट पर एक बार फिर से टिकट बदलने के चांस बढ़ गए हैं। अखिलेश के करीबी रफीक अंसारी का टिकट पक्का हो सकता है। मौजूदा समय में शिवपाल के दोस्तों में से एक अय्यूब अंसारी यहां से टिकट पा चुके हैं। दूसरी ओर शिवपाल और अखिलेश को हस्तिनापुर, किठौर और सिवालखास की सीटों पर कोई विवाद नहीं है। दोनों की सूचियों में तीनों विधायकों के नाम शामिल है। वहीं कैंट सीट में किसी की कोई दिलचस्पी नहीं है। वहां से आरती अग्रवाल को टिकट दिया गया है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned