अधिवक्ता को 112 नंबर पर फोन करना पड़ा महंगा थाने में गुजरी रात

Highlights

  • पुलिस पर लगा अधिवक्ता को अवैध रूप से हिरासत में रखने का आराेप
  • अधिवक्ताओं का प्रतिनिधिमंडल एसपी क्राइम से मिला
  • रात-भर साथी को छुड़ाने का प्रयास करते रहे अधिवक्ता

By: shivmani tyagi

Updated: 29 Oct 2020, 05:33 PM IST

Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ। एक अधिवक्ता को 112 पर विवाद की सूचना देना महंगा पड़ गया। पुलिस ने अधिवक्ता को पूरी रात थाने में बैठाए रखा। यह जानकारी जब हिरासत में बैठे अधिवक्ता ने अपने साथियों को दी तो उन्होंने पुलिस अधिकारियों को फोन किया लेकिन अधिवक्ताओं की बात नहीं सुनी गई। इस तरह अधिवक्ता को पूरी रात थाने में बितानी पड़ी।

यह भी पढ़ें: वर्ल्ड स्ट्रोक डे: कोरोना मरीजों के लिए लकवे का अटैक और भी घातक

इसी मामले काे लेकर बार के पूर्व महामंत्री रामकुमार शर्मा के नेतृत्व में गुरुवार काे अधवक्ताओं का एक प्रतिनिधि मंडल एसएसपी से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने इस पूरे प्रकरण पर रोष जताया और थानेदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। एसएसपी अजय साहनी की गैर मौजूदगी में एसपी क्राइम ने अधिवक्ताओं की बात सुनकर उनको कार्रवाई का अश्वासन दिया।

यह भी पढ़ें: विस्फोट होने से दो मंजिला मकान गिरा, कांग्रेस नगर अध्यक्ष समेत दो की मौत, कई मलबे में दबे

पूर्व महामंत्री रामकुमार शर्मा ने बताया कि गत रात्रि एक मामूली विवाद थाना सदर बाज़ार के अंतर्गत हो गया था। इसी मामले में अधिवक्ता अश्वनी कुमार ने 112 को फ़ोन करके बुलाया। इस पर पुलिस अधिवक्ता काे ही पकड़कर थाने ले गई। अधिवक्ता रामकुमार ने बताया कि जब उपरोक्त मामले काे लेकर जब एक अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने यह कहते हुए पल्ला झाड़ लिया कि इसमें निर्णय लेने का अधिकार एसओ का है।

यह भी पढ़ें: बिजली विभाग की लापरवाही के चलते मासूम लड़ रहा जिंदगी और मौत की लड़ाई, लोगों जमकर लगाई फटकार

रात में ही जानकारी मिलने पर अधिवक्तगण सदर थाने पहुँचे लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। अधिवक्ता रामकुमार शर्मा ने एसपी ट्रैफिक से कहा कि अधिवक्ता को रात भर थाने में अवैध हिरासत में क्यों रखा गया। अधिवक्ता की गिरफ़्तारी से पूर्व बार को सूचना क्यों नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि दोषी पुलिसकर्मी के विरुद्ध कार्यवाही की जाए।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned