तैयारी: कोरोना मरीज मिलने पर सील होगा इलाका, फिर से बनेंगे कंटेनमेंट जोन

  • कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर नए नियम तैयार
  • कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर गाइड लाइन

By: shivmani tyagi

Updated: 05 Apr 2021, 10:14 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ ( meerut news ) कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन ने सख्ती करनी शुरू कर दी है। अब मरीजों के मिलने के बाद कंटेनमेंट जोन बनाए जाने की तैयारी शुरू हो चुकी है। एक मरीज मिलने पर आसपास के 20 घरों को सील करने की योजना है। एक से अधिक मरीज ( Corona virus ) मिलने पर पूरा इलाका सील होगा। इसके साथ ही जो क्षेत्र कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा वहां पर लोगों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित किया जाएगा।

एक दिन में मिले 91 संक्रमित
मेरठ में एक दिन में फिर 91 संक्रमित पाए गए हैं। पिछले साल 2020 में 5 अप्रैल तक मेरठ में जहां कोरोना संक्रमितों की मात्र 20 के भीतर सिमटी हुई थी। इस वर्ष पांच अप्रैल तक संक्रमितों की संख्या 250 के ऊपर पहुंच चुकी है। यानी अप्रैल के मात्र पांच दिनों में ही 250 संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। मेरठ में अब तक 22107 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं जिनमें से 21165 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। मेरठ में अब तक कोरोना संक्रमण से मरने वाले मरीजों की संख्या 410 तक पहुंच चुकी है।

यह भी पढ़ें: वैक्सीनेशन के बावजूद यूपी के महानिदेशक स्वास्थ्य और स्टाफ कोरोना पॉजिटिव

होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों की संख्या का दायरा अब तेजी से बढ़ रहा है। जिले में इस समय होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों की संख्या 282 तक पहुंच चुकी है। मार्च के तीसरे सप्ताह से तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण ने जिले के हर क्षेत्र को अपनी चपेट में लिया हुआ है। मिले संक्रमितों में डाक्टर, हाउसवाइफ और छात्रों के अलावा बुजुर्ग लोग तक शामिल हैं। यह हाल सिर्फ मेरठ का नहीं है। वेस्ट के अन्य जिलों सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, गाजियाबाद, बागपत, बिजनाैर में भी कोरोना एक बार फिर से अपने पैर पसार रहा है। यह अलग बात है कि कोरोना वायरस के उपचार ( Corona Virus treatment ) वेक्सीनेशन के लिए लोगों में काफी उत्साह है।

Corona virus Corona Virus treatment
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned