दरोगा की बेटी का शव फंदे से लटका मिला, परिजनों ने प्रेमी कांस्टेबल पर लगाया हत्या का आरोप

Highlights

  • मेरठ केे कंकरखेड़ा क्षेत्र के रोहटा रोड का मामला
  • संदिग्ध अवस्था में मिले शव से पुलिस जांच में जुटी
  • परिजनों ने प्रेमी के खिलाफ हत्या की तहरीर दी

 

By: sanjay sharma

Published: 02 May 2020, 03:46 PM IST

मेरठ। थाना कंकरखेड़ा क्षेत्र में शनिवार को उस समय हड़कंप मच गया जब रिटायर्ड दरोगा की बेटी का शव फंदे से लटका मिला। मृतका के परिजनों ने उसके प्रेमी कांस्टेबल पर हत्या का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी है।

यह भी पढ़ेंः लॉकडाउन में फंसे स्टूडेंट्स पहुंचे अपने घर और सुनाई आपबीती, सीएम योगी को कहा शुक्रिया

थाना पुलिस के अनुसार शनिवार की सुबह रोहटा रोड के निवासियों ने सूचना दी कि इलाके के मधुराज साइबर कैफे के पहले तल पर रहने वाली एक महिला ने खुदकुशी कर ली है। उसका शव फंदे पर लटका हुआ है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को फंदे से नीचे उतारा। मृतका का नाम अंजलि है। घटना की जानकारी होने पर उसके परिवार के लोग भी घटनास्थल पर पहुंच गए। मृतका अंजलि के भाई अरविंद ने बताया कि उसके पिता चंद्रपाल सिंह एसपी सिटी कार्यालय में दरोगा थे। उनकी भी कुछ दिन पूर्व मौत हो गई। अरविंद के मुताबिक उसकी बहन की शादी गढ़ रोड कमालपुर गांव निवासी मोतीलाल से हुई थी। उसका जीजा भी पुलिस विभाग में है और इस समय वह शामली जिले में तैनात है।

यह भी पढ़ेंः तेरहवीं पर आया दिल्ली पुलिस का सिपाही मिला था संक्रमित, अब इस खबर ने सबको कर दिया खुश

अरविंद ने बताया कि उसके जीजा का दोस्त और रोहटा रोड निवासी आशीष जो कि पुलिस में ही है, उसकी बहन को बहला-फुसलाकर घर से ले गया था। जिसके बाद से उसकी बहन कांस्टेबल आशीष के साथ रोहटा रोड पर रह रही थी। अरविंद ने बताया कि उसके परिवार और अंजलि के बीच मुकदमा चल रहा था। जिसमें कुछ समय पहले ही फैसला हुआ था। जिसके एवज में एक मोटी रकम अंजलि को परिजनों की ओर से दी गई थी। आरोप है कि उसी रकम को हड़पने के लिए ही कांस्टेबल आशीष ने अंजलि की हत्या कर दी है। मृतका अंजलि के भाई ने आशीष और उसके पिता पूर्व पार्षद राजू समेत कई के खिलाफ हत्या की तहरीर थाने में दी है। पुलिस ने मृतका के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

Show More
sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned