रिटायर्ड कर्नल के घर डीआरआई का छापा, 1 करोड़ की नई करेंसी समेत विदेशी हथियार और मांस बरामद

मेरठ के इतिहास में डीआरआई की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई

मेरठ. डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेन्स (DRI) की टीम ने मेरठ के थाना सिविल लाइंस इलाके में स्थित सेना के पूर्व कर्नल देवेंद्र कुमार और उसके बेटे नेशनल शूटर प्रशांत बिश्नोई के घर गुप्‍त सूचना पर छापेमारी की। इस छापेमारी में रिटायर्ड कर्नल के घर से करीब एक करोड़ रूपये की नई करेंसी और वन्य जीवों की खाल, खोपड़ी, सींग के अलावा वन विभाग से जुड़ी शूटिंग की 40 राइफल्स और पिस्टल सहित करीब 50 हजार कारतूस बरामद हुए हैं। इसके साथ ही दुर्लभ और प्रतिबंधित वन्य जीवों का करीब 117 किलो मांस भी बरामद किया है, जिसे पार्टियों में विशेष मेहमानों काे परोसा जाता था।



मेरठ के थाना सिविल लाइन क्षेत्र के 36 /4  सिविल लाइन पर आज अचानक डीआरआई यानी डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस का छापा लगा। इस छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम देने के लिए टीम दिल्ली और एनसीआर से आई थी। टीम में शनिवार सुबह करीब 11:00 बजे रिटायर्ड कर्नल देवेंद्र कुमार के घर पर छापा मारा। छापेमारी की इस कार्यवाही में करीब डेढ़ दर्जन अधिकारी थे। जिसके बाद अचानक वन विभाग की टीम को भी छापेमारी की इस कार्रवाई में शामिल कर लिया गया। करीब 15 घंटे तक चली इस छापेमारी के बाद डीआरआई की टीम ने राष्ट्रीय शूटर प्रशांत बिश्नोई की हकीकत पर से पर्दा उठा दिया। दरअसल प्रशांत बिश्नोई रिटायर्ड कर्नल देवेंद्र कुमार के बेटे हैं, जो राष्ट्रीय स्तर के शूटिंग प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं। इसके अलावा कर्नल देवेंद्र कई राज्यों में अपनी सिक्योरिटी एजेंसी भी चलाते हैं।



डीआरआई की टीम ने भारी मात्रा में प्रतिबंधित पशुओं के अवशेष बरामद किए हैं। जिसमें तेंदुए की खाल, हिरण, बारहसिंघा, काला हिरण समेत दर्जनों पशुओं के करीब 19 अवशेष बरामद किए हैं। इसके अलावा छोटी और बड़ी 40 विदेशी राइफल्स और पिस्टल बरामद की गई है। साथ ही 50000 रुपयों से ज्यादा कीमत की गोलियां बरामद की गई हैं। इस पूरी कार्रवाई में भारी मात्रा में कैश भी बरामद हुआ है। करीब 1 करोड़ रुपए की नई करेंसी के नोट डीआरआई की टीम ने कर्नल देवेंद्र की मौजूदगी में घर से बरामद किए हैं। जिन्हें टीम ने सील कर दिया गया है। इतना ही नहीं प्रतिबंधित पशुओं के शिकार को अपना शौक बना चुके इन धनकुबेरों को अलग-अलग प्रजाति के पशु का मांस खाने का भी शौक है। इनके घर से करीब 45 अलग-अलग पैकेटों में कुल 117 कुंतल मांस बरामद हुआ है। जिसे विशेष पार्टियों और मेहमानों के आगे परोसा जाता था।

मेरठ के इतिहास में डीआरआई की यह कार्रवाई अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। जिसमें इतनी बड़ी रकम और वाइल्ड लाइफ से जुड़े इतने सारे अवशेष  बरामद हुए हैं। साथ ही भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किए गए हैं, लेकिन पुलिस और इंटेलीजेंस विभाग की पकड़ से अभी भी मुख्य आरोपी प्रशांत बिश्नोई दूर है। दिनभर प्रशांत की गिरफ्तारी के लिए कर्नल देवेंद्र और उनके परिवार से पूछताछ की गई, लेकिन टीम के हाथ अभी भी खाली हैं। हालांकि डीआरआई की टीम अभी प्रशांत विश्नोई से जुड़े पूरे नेटवर्क को खंगाल रही है। जिसमें अभी कई और बड़े नाम आने की उम्मीद जताई जा रही है।
Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned