scriptDuring excavation of Hastinapur, the instrument of Mauryan period,pott | हस्तिनापुर उत्खनन के दौरान मिला मौर्य काल का यंत्र,बर्तन भांड,ब्राहृी भाषा में लिखा ये शब्द | Patrika News

हस्तिनापुर उत्खनन के दौरान मिला मौर्य काल का यंत्र,बर्तन भांड,ब्राहृी भाषा में लिखा ये शब्द

हस्तिनापुर में महाभारत कालीन पांडव टीले के उत्खनन का कार्य काफी दिनों से चल रहा है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की टीम ने यहां पर डेरा डाला हुआ है। पहले भी इस टीले के उत्खनन के दौरान महाभारत कालीन कई अवशेष मिल चुके हैंं। उत्खनन के दौरान बर्तन और भांड भी मिले हैं।

मेरठ

Published: February 20, 2022 10:14:51 am

महाभारत समय के पांडव टीले पर कई दिनों से लगातार उत्खनन का कार्य चल रहा है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) की टीम को शुक्रवार को उत्खनन के दौरान एक यंत्र प्राप्त हुआ। जिस पर ब्राह्मी भाषा में शौझ लिखा हुआ है। मौर्य काल में इस यंत्र का उपयोग मिट्टी के बर्तन बनाने औजार के रूप में प्रयोग करते थे। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के मेरठ पुरातत्व मंडल की टीम द्वारा पांडव टीले पर उत्खनन किया जा रहा है। यहां प्राप्त होने वाले प्रत्येक अवशेष को संग्रहीत किया जा रहा है। जिसके लिए मिट्टी को बारीक छलनी में छाना जा रहा है। जो अवशेष प्राप्त होता है उसे साफ कर अलग-अलग कर रख दिया जाता है। अब एक नए स्थान पर भी उत्खनन के लिए ट्रेंच बनाने की तैयारी शुरू हो गई है।
हस्तिनापुर उत्खनन के दौरान मिला मौर्य काल का यंत्र,बर्तन भांड,ब्राहृी भाषा में लिखा ये शब्द
हस्तिनापुर उत्खनन के दौरान मिला मौर्य काल का यंत्र,बर्तन भांड,ब्राहृी भाषा में लिखा ये शब्द
स्थापित होगी प्रयोगशाला, संग्रहालय की जमीन चिह्नित

शीघ्र ही यहां पर प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी, जिसमें परीक्षण कर अवशेषों की कार्बन डेटिग से प्राचीनता की जांच की जाएगी। वहीं राष्ट्रीय संग्रहालय के लिए जमीन की तलाश कर ली गई है बस उस पर मुहर लगनी बाकी है। यह साइट पांडव टीले के बिल्कुल समीप होगी। एसडीएम मवाना अमित कुमार गुप्ता ने बताया कि पांडव टीले के समीप ही राष्ट्रीय संग्रहालय बनाने के लिए जमीन की तलाश तेज कर दी गई है।
यह भी पढ़े : आईकोनिक साइट के रूप में विकसित होगा हस्तिनापुर,बनेगा महाभारत कालीन म्यूजियम

एएसआइ के अधीक्षण पुरातत्वविद डीबी गड्नायक ने बताया कि यहां पर उत्खनन के दौरान बहुत सी ऐसी चीजें मिली हैं। जिनको जांच के लिए भेजा गया है। हालांकि प्राप्त अवशेष महाभारत कालीन ही हैं। इसकी पुष्टि हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि अभी उत्खनन का कार्य जारी रहेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि उत्खनन कार्य में अभी और बहुत कुछ बाहर आ सकता है। जिससे महाभारत के इतिहास और उस दौरान रहन सहन को जानने के बारे में जानकारी मिलेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभकिसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामसूर्य-बुध की युति से बनेगा ‘बुधादित्य’ राजयोग, जानिए किसकी चमकेगी किस्मत?दिल्ली के सरकारी स्कूलों में सिर्फ 15 दिन का समर वेकेशन, जानिए प्राइवेट स्कूलों को लेकर क्या हुआ फैसला17 मई से 3 राशि वालों के खुलेंगे भाग, मंगल का मीन में गोचर दिलाएगा अपार सफलता2023 तक मीन राशि में रहेगा 'जुपिटर ग्रह', 3 राशियों की धन-दौलत में करेगा जबरदस्त वृद्धिगेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटलजमकर बिकी Tata की ये किफायती SUV! एडवांस फीचर्स और 5 स्टार सेफ़्टी के आगे फेल हुएं सभी

बड़ी खबरें

Congress Chintan Shivir 2022 : आज बनेगा सामूहिक ड्रॉफ्ट, कांग्रेस कार्यसमिति करेगी निर्णयकाले हिरण मामले में पुलिस ने चार शिकारियों को मार गिराया, 2 गिरफ्तार, एक पुलिसकर्मी भी घायलAndrew Symonds Death: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एंड्रयू साइमंड्स की कार एक्सीडेंट में मौतउत्तराखंड, कर्नाटक, गुजरात और अब त्रिपुरा में CM बदला, आखिर क्यों BJP बार-बार कर रही बदलाव?Rajasthan Road Accident: राजस्थान के राजसमंद में बड़ा सड़क हादसा, 4 लोगों की मौत, मची चीख-पुकारजानिए 99 साल पहले किसलिए हुआ था बुलडोजर का निर्माण, जिसका हो रहा आज तोड़फोड़ में इस्तेमालशरद पवार के खिलाफ पोस्ट इस एक्ट्रेस को पड़ा भारी, मुंबई पुलिस ने हिरासत में लियाIPL 2022: कोलकाता ने हैदराबाद को 54 रनों से हराया, प्लेऑफ की रेस से बाहर हुआ SRH
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.