गन्ना भुगतान और बिजली बिल माफी के लिए कलेक्ट्रेट में किसानों का डेरा

  • कलेक्ट्रेट में गद्दे बिछाकर बैठे किसान
  • बोले मांग पूरी होने तक जारी रहेगा धरना
  • सरकार के खिलाफ किसान कर रहे नारेबाजी

By: shivmani tyagi

Published: 18 Jan 2021, 06:37 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
मेरठ ( meerut news ) ट्रैक्टर ट्रॉली लेकर नारेबाजी करते हुए किसान सोमवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां किसानों ने कलेक्ट्रेट के (Farmer Protest ) धरना स्थल पर गद्दे लगा दिए और जमकर बैठ गए। किसानों की मांगें थी कि गन्ने का भुगतान किया जाना चाहिए और बिजली के बिल का भी पेमेंट भी मिले।

यह भी पढ़ें: यूपी गेट पर महिलाओं ने संभाली किसानाें के धरने की कमान

भारतीय किसान संगठन के बैनर तले कलेक्ट्रेट पहुंचे किसानों ने कहा कि आज धरती का अन्नदाता सबसे अधिक परेशान है। गन्ने का भुगतान नहीं हो रहा है। बिजली के बिल की पेमेंट की मांग कर रहे हैं वो नहीं मिल रही है। ऊर्जा निगम द्वारा किसानों के खिलाफ बिजली चोरी की एफआईआर दर्ज कराई जा रही है।

यह भी पढ़ें: माइक्रोसॉफ्ट की नौकरी छाेड़ गांव की देशी जमीन में विदेशी सब्जी उगाकर लाखाें कमा रहे चाचा-भतीजे

कलक्ट्रेट में डीएम के कार्यालय के सामने ही डेरा डालकर बैठे किसानों ने जमकर नारेबाजी करते हुए अफसरों को खरी-खरी सुनाई। किसानों ने मिलों और बिजली विभाग की हठधर्मिता व तानाशाही से निजात दिलाने की मांग भी की। किसानों ने चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगे नहीं मानी गई तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: 'तांडव' को लेकर बवाल, जूना अखाड़े ने कहा- समझाने का वक्त नहीं, ये लोग जहां मिले चाटे मारो

किसानों के धरने के दौरान ही पंचायत शुरू कर दी। धरने पर बैठे किसानों ने पंचायत में कहा कि शुगर मिल में गन्ना भुगतान की मांग को लेकर धरना दिया गया था। जिसमें जिला गन्ना अधिकारी ने भुगतान कराने का वादा किया था लेकिन आज तक किसानों का भुगतान नही हो सका।

यह भी पढ़ें: गोकश को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला, पथराव और फायरिंग मेें कई सिपाही घायल

किसानों ने कहा कि किसानों का समस्त गन्ना भुगतान जल्द से जल्द कराया जाना चाहिए। बिजली की बढ़ी दरों पर रोक लगाई जाए। जब तक किसानों का भुगतान नहीं होता किसी भी किसान को बिजली बिल के लिए परेशान न किया जाए। इस दौरान खाद्य विभाग के अधिकारियों के भ्रष्टाचार पर कार्रवाई की मांग भी की गई। इस अवसर पर सैकड़ों किसान मौजूद था।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned