एक्सप्रेस-वे पर किसानों ने डाला डेरा, महिलाओं ने बीच सड़क चढ़ाई कढ़ाई, जानिये पूरा मामला

Highlights

मुआवजे की मांग को लेकर गांव अछरौंड़ा किसानों का आंदोलन शुरू

अछरौंडा में निर्माणाधीन टोल पर धरने पर जमें किसान

आंदोलन के बीच अब एक दिसंबर तक काम पूरा होना मुश्किल

By: Rahul Chauhan

Published: 19 Sep 2020, 03:39 PM IST

मेरठ। पश्चिम उप्र में कई जिलों में निर्माणाधीन एक्सप्रेस वे के लिए जमीनें तो अधिग्रहीत कर ली गई। लेकिन जिन किसानों की जमीनें अधिग्रहीत की उनको मुआवजा न मिलने से अब किसानों के धैर्य का बांध टूट गया है। आक्रोशित किसानों ने अब आंदोलन की राह पकड़ ली है। ऐसा ही दिल्ली—मेरठ एक्सप्रेस वे के हालात हैं। इस एक्सप्रेस वे पर पड़ने वाले गांवों के किसानों ने एक समान मुआवजे की मांग को लेकर अब एक्सप्रेस वे पर डेरा डाल दिया है। किसानों ने निर्माणाधीन हाइवे पर ही पंचायत जमा ली है।

एक तरफ जहां किसान एक्सप्रेस वे पर टेंट लगाकर डेरा डाले हुए हैं तो वहीं दूसरी ओर महिलाओं ने भी खाना बनाने के लिए कढ़ाई चढ़ा ली है। किसानों ने अछरौंडा गांव में धरने दे दिया है। किसानों ने ऐलान कर दिया है कि जब तक एक समान मुआवजे पर फैसला नहीं होगा तब तक किसान काम करने नहीं देंगे। किसानों ने धरने के साथ ही महिलाओं ने कड़ाही चढ़ाकर खाना बनाने का काम भी शुरू कर दिया। मेरठ के अछरौंडा में निर्माणाधीन टोल पर ही किसान धरने पर बैठे हैं। अब किसानों के इस तरह से चल रहे आंदोलन से दिसंबर तक काम पूर्ण होना मुश्किल हो गया है।

बता दें कि केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आगामी 31 दिसंबर तक दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे के काम को पूरा करने के निर्देश दिए हैं। वहीं दूसरी ओर गाजियाबाद के डासना में भी 26 गांवों के किसान एक समान मुआवजे की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। वार्ता विफल होने के बाद किसानों ने डासना से मेरठ के बीच 10 दिनों के लिए काम बंद करा दिया। शुक्रवार से किसान एक्सप्रेस-वे पर ही धरने पर बैठ गए। किसानों के घरों की महिलाएं भी बड़ी संख्या में पहुंची। एक्सप्रेस-वे पर कड़ाही चढ़ाकर खाना बनाया। किसानों का कहना है कि अब आर-पार की लड़ाई के लिए वे पूरी तरह से तैयार हो गए हैं।

अछरौंडा में एक समान मुआवजे की मांग को लेकर बहादरपुर अंडरपास के नीचे टोल प्लाजा पर एक्सप्रेस वे से प्रभावित अछरौंडा, काशी, परतापुर, सोलाना और भूड़बराल के किसानों ने धरना शुरू किया है। धरनारत किसानों का कहना है कि मेरठ जिले के किसानों की मुख्य मांगों को भी जल्द पूरा किया जाए। जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी अनिश्चितकालीन धरना जारी रहेगा। धरने में कांग्रेस के पश्चिम के एनएसयूआई अध्यक्ष रोहित राणा ने भी किसानों का समर्थन किया और मांगों को जायज बताया। साथ ही जल्द पूरा कराने की मांग की। किसानों ने अब सोलाना से परतापुर रेलवे लाइन तक खेतों को जोड़ने वाली सर्विस रोड का निर्माण, अछरौंडा गांव की हाईवे से जोड़ने की भी मांग रख दी है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned