Breaking: मेरठ के दर्जनों गांवों में बाढ़ की स्थिति बनी हुर्इ, जन्माष्टमी मनाने गया युवक डूबा, ग्रामीणों ने बचाया

Breaking: मेरठ के दर्जनों गांवों में बाढ़ की स्थिति बनी हुर्इ, जन्माष्टमी मनाने गया युवक डूबा, ग्रामीणों ने बचाया

Sanjay Kumar Sharma | Publish: Sep, 03 2018 12:51:57 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

ग्रामीणों ने एक घंटे की मशक्कत के बाद बचाया, गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया

 

मेरठ। जनपद के खादर क्षेत्र में दो दर्जन से भी ज्यादा गांव में बाढ़ की स्थिति बनी हुर्इ है। गांव लतीपुर से जन्माष्टमी त्योहार मनाने गया युवक बूढ़ी गंगा में डूब गया। ग्रामीणों ने करीब एक घंटे तक रेस्क्यू से उसे गंभीर हालत में बाहर निकाला। इससे क्षेत्र में हड़कंप मच गया आैर भय का माहौल भी है आैर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्रामीण इस वर्ष भी जन्माष्टमी का त्योहार गंगा बूढ़ी गंगा नदी की पूजा कर मना रहे हैं। बूढ़ी गंगा पर पूजा करते समय बाबू पुत्र अतर सिंह स्नान करने लगा अचानक गहरा पानी होने की वजह से वह पानी में डूब गया। ग्रामीणों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया।

यह भी पढ़ेंः मौसम विभाग ने इन क्षेत्रों में भारी बारिश को लेकर जारी किया अलर्ट

दो दर्जन से ज्यादा गावाें में स्थिति भयावह

मेरठ के खादर क्षेत्र के दो दर्जन से भी ज्यादा गांव में बाढ़ से स्थिति भयावह हो चली है। रविवार को हुई बारिश से स्थिति और बिगड़ गई है। इन गांवों के ग्रामीण बाढ़ से जूझ रहे हैं। कई गांव में पानी भरा है। गांव तो जलमग्न है ही, अब किसानों की धान और गन्ने की फसल भी नष्ट होने की कगार पर है। क्षेत्रीय किसानों की हजारों हेक्टेयर धान की फसल पूरी तरह नष्ट हो चुकी है। लगातार दो सप्ताह से पानी भरा होने के कारण धान की फसल पानी में गल चुकी है, जिससे किसानों की आर्थिक स्थिति कमजोर हो गई है। क्षेत्रीय किसानों ने शासन-प्रशासन से फसल के उचित मुआवजे की मांग की है।

प्रशासन कर चुका है अलर्ट

गंगा में जलस्तर में भारी जल वृद्धि से गंगा का तटबंध पहले ही कई जगह से क्षतिग्रस्त होकर टूट चुका है। जिससे पानी लगातार खादर क्षेत्र के कई गांवों की स्थिति को नाजुक बना चुका है। दो दर्जन से भी ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में है और गांव से बाहर पलायन कर रहे हैं। प्रशासन के बार-बार अलर्ट करने के बाद भी कुछ परिवार गांव में ही जमे हुए हैं, जबकि प्रशासन द्वारा क्षेत्र में अलर्ट जारी किया गया है।

यह भी पढ़ेंः इतने दिन बैंकों की बंदी को लेकर मच गर्इ अफरातफरी, जानिए इसके पीछे क्या है वजह

क्षेत्र का दौरा किया

हस्तिनापुर थाने के इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह और अन्य पुलिसकर्मियों ने टूटे तटबंध का निरीक्षण करने गंगा बांध फतेहपुर प्रेम पहुंचे। बाढ़ का पानी भरा होने के कारण टीम को ट्रैक्टर का सहारा लिया। ट्रैक्टर से होते हुए वह फतेहपुर प्रेम तटबंध पर पहुंचे और वहां जाकर लोगों का हाल जाना।

Ad Block is Banned