Meerut: मृतक पोते के लिए इंसाफ मांगने पहुंचा दादा तो बंद कर दिए गए कमिश्नर ऑफिस के गेट, देखें Video

Highlights
- मेरठ के ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र की घटना
- महज दस रुपए के विवाद में की गई थी पोते की हत्या
- खुलेआम परिजनों को जान से मारने की धमकी दे रहे आरोपी

By: lokesh verma

Published: 03 Dec 2019, 04:17 PM IST

मेरठ. पोते के हत्यारों को पकड़वाने के लिए दादा को दर-दर भटकना पड़ रहा है, लेकिन हत्यारोपी पुलिस पकड़ से बाहर हैं। थाने जाने पर पीड़ितों को बताया जाता है कि हत्यारोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस दबिश दे रही है। वहीं आरोपी पीड़ितों को खुलेआम फोन पर जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें- हैदराबाद की घटना से दुखी छात्र ने पीएम मोदी को खून से लिखा पत्र

दरअसल, यह मामला थाना ब्रह्मपुरी क्षेत्र का है। जहां बीते 16 नवंबर को प्रवीन नामक युवक की दस रुपये के विवाद में चाकू मारकर हत्या कर दी गई थी। परिजनों ने हत्या के आरोप में बंटी, गौरव, रजनीश, दीपक के खिलाफ थाना ब्रहमपुरी में मुकदमा दर्ज कराया था। परिजनों का आरोप है कि 15 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस हत्यारोपियों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। हालांकि पुलिस ने दो अभियुक्त बंटी और गौरव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, लेकिन दो अन्य अभियुक्त रजनीश और दीपक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। पीड़ित का आरोप है कि फरार अभियुक्तों के परिजन आए दिन उनके घर आकर धमकी दे रहे हैं। वहीं फरार अभियुक्त भी फोन पर जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।

पुलिस थाने और अधिकारियों के पास सुनवाई न होने के चलते परिजन कमिश्नर से मिलने कमिश्नरी कार्यालय पहुंचे, लेकिन उनको गेट से भीतर नहीं जाने दिया गया। परिजनों को गेट पर ही रोक लिया और ताला बंद कर दिया गया। मृतक युवक के दादा श्याम लाल ने मीडिया को बताया कि उनकी कहीं सुनवाई नहीं हो रही है। वे पुलिस और अधिकारियों से मिल चुके हैं। उनको प्रतिदिन जान से मारने की धमकी मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि हम आज कमिश्नर से मिलने के लिए आए थे, लेकिन हमारे यहां पहुंचते ही दरवाजे बंद कर लिए गए।

यह भी पढ़ें- मुस्लिम धर्मगुरु बोले- मुसलमानों के पक्ष में आएगा पुनर्विचार याचिका पर फैसला, देखें वीडियो

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned