हॉस्‍टल की छात्रा बोली- वार्डन बनाती है युवकों से दोस्‍ती करने का दबाव

 हॉस्‍टल की छात्रा बोली- वार्डन बनाती है युवकों से दोस्‍ती करने का दबाव
Meerut

युवतियों से कहती है कि बताए गए मोबाइल नंबरों पर कॉल कर युवकों से दोस्ती करें इससे सभी का फायदा है

मेरठ. सिविल लाइन थाना क्षेत्र के एक हॉस्टल में उस समय हंगामा खड़ा हो गया जब हॉस्टल में रहने वाली युवतियों ने हॉस्टल की वार्डन पर युवकों से दोस्ती करने का दबाव बनाने का आरोप लगाते हुए वार्डन सहित एक छात्रा की पिटाई कर डाली। छात्राओं ने आरोप लगाया कि वार्डन ने बात न मानने पर एक छात्रा का सामान हॉस्टल से बाहर फेंक दिया और उसकी पिटाई करते हुए उसकी ज्‍वेलरी और कैश लूट लिया।



दरअसल पूर्वी कचहरी मार्ग पर वैश्य अनाथालय ट्रस्ट की भूमि पर इंदिरा गांधी महिला छात्रावास है। हॉस्टल में लगभग 50 युवतियां रहती हैं, जिनमें से अधिकांश या तो अध्यन कर रही हैं या कुछ प्राइवेट जॉब करती हैं। छात्रावास के कमरा नंबर-5 में रहने वाली संगीता के अनुसार हॉस्टल प्रबंधन पहले प्रति छात्रा एक हजार रूपये महीना कमरे का किराया और पांच सौ रूपये बिजली के बिल के रूप मे वसूलता था। आरोप है कि कुछ समय पूर्व छात्रावास प्रबंधन ने कमरे का किराया बढ़ाकर 18 सौ रूपये कर दिया और बिजली के लिए छात्राओं के कमरों में मीटर लगवाने शुरू कर दिए।



संगीता का आरोप है कि हॉस्टल की वार्डन मंजू राणा यहां रहने वाली युवतियों पर दबाव बनाती है कि वह उसके बताए गए मोबाइल नंबरों पर कॉल करके युवकों से दोस्ती कर लें। इसमें उनका भी फायदा है और युवतियों का भी। आरोप है कि जिन छात्राओं ने वार्डन की बात मानने से इनकार किया। उन्हें वार्डन अनर्गल आरोप लगाकर परेशान करने लगी। इसी क्रम में हॉस्टल प्रबंधन ने संगीता की साथी अनु चौधरी के कमरा नंबर-34 पर ताला लगा दिया। अनु ने अपने कुछ साथियों को बुलाकर ताला खुलवाने का प्रयास किया तो हॉस्टल की वार्डन मंजू राणा ने उससे कहा कि वह बेगमपुल से चाबी वाले को बुलवाकर ताला खुलवाए। इस बात को लेकर विवाद हुआ तो वार्डन ने पुलिस बुला ली।

युवतियों का आरोप है कि हॉस्टल की वार्डन मंजू राणा, हेमलता शर्मा और सहायिका माया और हॉस्टल की छात्रा ज्योति‍ ने संगीता के कमरे में घुसकर उसकी पिटाई कर डाली। आरोप है संगीता के कमरे से सामान बाहर फेंकते हुए आरोपियों ने उसके कुंडल और 80 हजार की नकदी छीन ली और कमरे पर ताला जड़ दिया। जिसके विरोध में हंगामा करते हुए छात्राओं ने प्रबंधन और पुलिस को सूचना दी। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस के सामने दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाए। पुलिस दोनों पक्षों को थाने पहुंचाने की ताकीद करते हुए वापस लौट गई। बाद में दोनों पक्षों ने थाने पहुंचकर एक-दूसरे के खिलाफ तहरीर देते हुए कार्यवाही की मांग की।

वहीं हॉस्टल प्रबंधन का कहना है कि हॉस्टल की कुछ छात्राओं के पास बाहरी युवकों का आनाजाना है। वहीं यह छात्राएं न तो समय से किराया देती हैं और न ही बिजली का बिल। हॉस्टल प्रबंधन का आरोप है कि जब इन छात्राओं से कमरा खाली करने को कहा गया तो उन्होंने अनर्गल आरोप लगाने शुरू कर दिए और हॉस्टल की वार्डन और एक छात्रा की पिटाई कर डाली।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned