लॉकडाउन ! 25 से 30 नवंबर तक इन जिलों की सीमाएं रहेंगी सील

  • योगी सरकार ने लिया कड़ा फैसला
  • कार्तिक पूर्णिमा स्नान के मौके पर जुटते हैं श्रद्धालुगण
  • सीओ गढ़ और और एसडीएम गढ़ को बनाया गया नोडल अधिकारी

By: shivmani tyagi

Published: 20 Nov 2020, 06:40 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
हापुड. गढ़मुक्तेश्वर पर प्रतिवर्ष लगने वाला कार्तिक पूर्णिमा मेला इस बार नहीं लग पाएगा। इसके लिए अभी से हापुड़ प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है। इसके तहत गढ़ से लगने वाली सभी जिलों की सीमाओं पर बैरिकेटिंग की जा रही है। एसडीएम गढ़ विजय वर्धन सिंह तौमर के अनुसार 25 से 30 नवंबर तक गढ़ में आंशिक रूप से लॉक डाउन रहेगा। इस अवधि में यातायात पर प्रतिबंधित रहेगा सिर्फ आवश्यक सेवाओं को ही छूट रहेगी।

यह भी पढ़ें: पुलिस को चकमा देकर बाजार में दुकान चला ऱहा था 50 हजार का इनामी, ऐसे चढ़ा हत्थे

यानी साफ है कि, गढमुक्तेश्वर के गंगा घाट पर लॉक डाउन रहेगा जिसके चलते किसी को भी गंगा घाट के पास जाने की अनुमति नहीं होगी। कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए यह निर्णय किया। सरकार के इन कड़े फैसलों का कारण यह है कि देश में सबसे अधिक जनसंख्या वाला राज्य होने के बावजूद यहां पर कोरोना की स्थिति बिगड़ती जा रही है। यहबलग बात है कि सरकारी प्रयासों और कार्रवाई से काफी हद तक इस पर काबू पाने के प्रयास किए जा रहे हैं। अब योगी सरकार ने एक और कड़ा फैसला लेते हुए हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में 25 से 30 नवम्बर तक लॉकडाउन लागू करने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें: महिला दरोगा से अभद्रता करना कोतवाल को पड़ा भारी, वीडियो हुआ वायरल तो लिया गया एक्शन

सूत्रों के अनुसार गढ़मुक्तेश्वर में 25 से 30 नवम्बर तक 6 दिनों के लिए लॉकडाउन लगा दिया गया है। यहां पर गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु जुटते हैं। इस बार कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर को है। ऐसे में इस बार कोरोना संकट के दौरान भी यहां भारी भीड़ ना जुट जाए और लोगों में संक्रमण की आशंका बढ़ जाने से रोकने के लिए स्थानीय प्रशासन ने यह फैसला लिया है। इस दौरान यहां केवल शादी के लिए आने वाले वाहनों को छूट दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: गजब! 10वीं की छात्रा ने संभाली थाना प्रभारी की कुर्सी, लोगों की समस्याओं का किया समाधान

कोरोना के चलते इससे पहले गंगा स्थान पर लगने वाले मेला को प्रशासन द्वारा स्थगित किया जा चुका है। लोगों को एक स्थान पर जुटने से रोकने के लिए इसके बाद से पूरे हापुड़ जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस दौरान दीप दान के लिये आने वालों को छूट दी जा सकती है। बताया जा रहा है कि गंगा स्नान के लिए विभिन्न जिलों से लाखों की संख्या में लोग पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें: हाईकोर्ट में सपा सांसद आजम खान के खिलाफ दो मामलों में सुनवाई पूरी, जल्द आ सकता है फैसला

प्रशासन द्वारा लोगों को यहां पहुंचने से रोकने के लिए मेरठ, हापुड, बुलंदशहर, मुरादाबाद, गजरौला, संभल, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद जैसे जिलों में स्नान करने के लिए आने वालों को रोकने के लिए पत्र भेजा गया है। इसके अलावा मेरठ, बुलंदशहर, नोएडा और गाजियाबाद की सीमा पर बेरिकेडिंग की जा रही है

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned