scriptMahabharata carpet museum to be built in Hastinapur | आईकोनिक साइट के रूप में विकसित होगा हस्तिनापुर,बनेगा महाभारत कालीन म्यू​जियम | Patrika News

आईकोनिक साइट के रूप में विकसित होगा हस्तिनापुर,बनेगा महाभारत कालीन म्यू​जियम

पांडवों और कौरवों का इतिहास समेटे और महाभारत की गाथा की गवाह रही हस्तिनापुर अब आइकोनिक साइट के रूप में विकसित होगा। यहां पर महाभारत कालीन म्यूजियम बनाया जाएगा। इस म्यूजियम में महाभारत कालीन जो पुरातन वस्तुएं खुदाई के दौरान मिली हैं। उनको सहेजा जाएगा। जिलाधिकारी ने बैठक कर दिये म्यूजियम के लिए जमीन चिन्हित करने के निर्देश दिए हैं।

मेरठ

Published: February 18, 2022 08:36:38 pm

भारत सरकार द्वारा हस्तिनापुर को आईकोनिक साईट के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया गया है। जिससे पर्यटन,सर्वेक्षण आदि को बढ़ावा मिलेगा। हस्तिनापुर में 5 एकड की भूमि पर पुरातात्विक स्थल म्यूजियम (आर्केलोजिकल साईट म्यूजियम) बनाया जायेगा। जिलाधिकारी के0 बालाजी ने आज अपने कार्यालय कक्ष में हस्तिनापुर में पुरातात्विक साईट म्यूजियम बनाने के संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक कर भूमि का जल्द से जल्द चिन्हांकन कर प्रस्ताव शासन को भेजने के निर्देश दिये।
आईकोनिक साइट के रूप में विकसित होगा हस्तिनापुर,बनेगा महाभारत कालीन म्यू​जियम
आईकोनिक साइट के रूप में विकसित होगा हस्तिनापुर,बनेगा महाभारत कालीन म्यू​जियम
जिलाधिकारी के0 बालाजी ने बताया कि हस्तिनापुर को आईकोनिक साईट के रूप में विकसित किया जायेगा। जिससे पर्यटन, सर्वेक्षण को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए हस्तिनापुर में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) द्वारा पुरातात्विक स्थल म्यूजियम (आर्केलोजिकल साईट म्यूजियम) बनाया जायेगा। इस म्यूजियम में देश के गौरवशाली विरासत को तथा खुदाई में मिल रहे अवशेषों को भी प्रदर्शित किया जायेगा। बता दें कि हस्तिनापुर हमेशा से उपेक्षित रहा है। यहां पर जैन धर्म के काफी तीर्थ पर्यटन स्थल हैं। प्रदेश में पिछले कई दशकों से सरकारें आई लेकिन हस्तिनापुर हमेशा ही उपेक्षित रहा। जबकि यह देश का एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है। यहां पर महाभारत कालीन अवशेष पुरातत्व विभाग द्वारा की गई खुदाई में मिले हैं।

जिलाधिकारी के0 बालाजी ने उक्त म्यूजियम के लिए 05 एकड़ भूमि को चिन्हित करने के लिए एसडीएम मवाना, पर्यटन विभाग व एएसआई को निर्देशित किया। उन्होेने बताया कि जमीन चिन्हांकन कर प्रस्ताव शासन को भेजा जायेगा। म्यूजियम बनाने व उसमें प्रदर्शित की जाने वाली विभिन्न चीजो का कार्य भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) द्वारा किया जायेगा। इस अवसर पर एसडीएम मवाना अमित कुमार गुप्ता, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी अंजू चौधरी, एसडीओ फोरेस्ट सुभाष चौधरी, आरएसओ जी0डी0 बारीकी, राजकीय संग्रहालयाध्यक्ष पतरू सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारीगण आदि उपस्थित रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.