scriptMeerut Jama Masjid is a unique of Sultanate period architecture | Meerut Jama Masjid : रावण की ससुराल में बनी ये जामा मस्जिद सल्तनत काल की वास्तुकला का नायाब नमूना | Patrika News

Meerut Jama Masjid : रावण की ससुराल में बनी ये जामा मस्जिद सल्तनत काल की वास्तुकला का नायाब नमूना

Meerut Jama Masjid History मेरठ यानी रावण की ससुराल में बनी जामा मस्जिद जो कि शहर के बीचोबीच कोतवाली के पीछे मोरीपाड़ा में स्थित है। मेरठ की जामा मस्जिद विश्च में सिर्फ तीन ऐसी मस्जिद हैं। जिनमें दो अपने देश भारत में जबकि तीसरी श्रीलंका में है। सल्तनत काल की वास्तुकला का अनूठा नमूना है ये मेरठ की ये जामा मस्जिद। इस जामा मस्जिद की दीवारें और इसके अंदर की बनावट इतनी शानदार है कि इसको देखने वाला देखता ही रह जाए। गर्मी में इसके भीतर किसी पंखे या एसी की जरूरत रही होती। जामा मस्जिद में करीब एक हजार लोग नमाज अदा कर सकते हैं।

मेरठ

Published: May 02, 2022 03:42:24 pm

Meerut Jama Masjid History मेरठ यानी रावण की ससुराल में बनी जामा मस्जिद सल्तनत काल की निर्माण शैली का नायाब नमूना है। मेरठ के जामा मस्जिद जैसी सिर्फ दो मस्जिद विश्व में और हैं। जिनमें से एक बदायूं जिले में है। जबकि दूसरी श्रीलंका में है। मेरठ को रावण की ससुराल कहा जाता है। यहां पर मंदोदरी का मायका था। मेरठ को पहले मयराष्ट्र के नाम से जाना जाता था। मेरठ की जामा मस्जिद उत्तर भारत ही नहीं बल्कि विश्व की अति प्राचीन मस्जिदों में से एक है। मेरठ कोतवाली के पीछे स्थित इस मस्जिद का निर्माण 11वीं शताब्दी में हुआ था। इसका निर्माण क़ुतुबुद्दीन ऐबक ने शुरू करवाया था। उसके बाद इल्तुतमिश के पौत्र नसीरूद्दीन महमूद ने इसके निर्माण को पूरा कराया।
Meerut Jama Masjid : मेरठ की जामा मस्जिद सल्तनत काल की वास्तुकला का नायाब नमूना
Meerut Jama Masjid : मेरठ की जामा मस्जिद सल्तनत काल की वास्तुकला का नायाब नमूना
मेरठ की जामा मस्जिद 1239 ई.में बनकर तैयार हुई। यह सल्तनत काल की वास्तुकला का एक बेहतरीन अनूठा नमूना है। यह एक अति पवित्र धार्मिक स्थल के रूप में माना जाता है। निर्माण काल के बाद से इस मस्जिद में आज तक लगातार नमाज अदा की जा रही है। इस मस्जिद की खासियत है कि इनमें भीतर मौसम बहुत कूल रहता है। गर्मी में पंखे इत्यादी की जरूरत नहीं पड़ी। इस मस्जिद के भीतर दीवारों पर कुरान की आयतें लिखी हुई हैं।
यह भी पढ़े : Eid ul-Fitr 2022 : ईद पर बाहर निकलने से पहले जान ले रूटडायवर्जन प्लान, इन सड़कों पर रहेगा प्रतिबंध

मस्जिद की दीवारे दस फिट मोटी
मेरठ की जामा मस्जिद की दीवारें करीब 10 फीट मोटी हैं। मस्जिद के निर्माण में अधिकांश मिटटी और चूने का प्रयोग किया गया है। मिटटी और चूने से इसकी दीवारें बनाई गई है। दीवारों की चौड़ाई करीब दस फीट है। वहीं इन दीवारों की ऊचाई करीब 50 फीट है। इस मस्जिद में तीन गुंबद हैं। जबकि आमतौर पर मस्जिदों में एक ही गुंबद होती है।
यह भी पढ़े : Gold and silver price Today : अक्षय तृतीया से पहले बढ़े सोना के भाव,जानिए मेरठ सराफा बाजार का हाल

मस्जिद के चारों तरफ थे नुकीले दरवाजे
मेरठ जामा मस्जिद के चारों तरफ दरवाजे हैं। इस दरवाजों की खासियत हैं कि यह सभी दरवाजें नुकीले हैं। बताया जाता है कि मुगल सल्तनत के दौरान हुमायूं ने सभी धार्मिक स्थलाें की रक्षा के लिए उनके मुख्य द्वारों पर लगे दरवाजे पर लोहे के नुकीली मोटी कील लगवाई थी। यह सुरक्षा के लिए थी। उस दौरान हमले आदि होने पर दरवाजे आदि तोड़ने के लिए हाथियों का प्रयोग किया जाता था। हाथी अपने मस्तक के प्रहार से दरवाजों को तोड़ देता था। इस मस्जिद को देखने के लिए बहुत दूर-दूर से लोग आते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

गुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तारआज चंडीगढ़ की ओर कूच करेंगे किसान, बॉर्डर पर ही बिताई रात, CM भगवंत बोले- 'खोखले नारे' नहीं तोड़ सकते संकल्पवाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर अहम बहस, जानें किन मुद्दों पर हो सकता है फैसलादिल्ली में आज एक बार फिर चलेगा बुलडोजर! सुरक्षा के लिए 400 पुलिसकर्मियों की मांगकांग्रेस नेता कार्ति चिंदबरम के करीबी को CBI ने किया गिरफ्तार, कल कई ठिकानों पर हुई थी छापेमारीIND vs SA सीरीज से पहले ICC ने इस युवा खिलाड़ी पर लगाया बैन, पढ़ें पूरा मामलाVIDEO: आग से एक साथ धधकी तीन गाडिय़ां, दहल गया मोहल्ला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.