'मस्जिदों में मिले 500 लोगों के नमाज पढ़ने की अनुमति, खोले जाए मदरसे'

Highlights:

-शहर काजी जैनुससाजिद्दीन प्रतिनिधिमंडल के साथ मिले डीएम से

-डीएम ने दी 200 लोगों के नमाज पढ़ने की अनुमति

-मदरसों में आनलाइन शिक्षा देने में आ रही कठिनाई

By: Rahul Chauhan

Published: 22 Oct 2020, 10:43 AM IST

मेरठ। जिले की मस्जिदों में इस समय 100 लोगों को नमाज पढ़ने की अनुमति प्रशासन की ओर से जारी की गई है। जिसे बढ़वाने के लिए शहर काजी जैनुससाजिद्दीन एक प्रतिनिधिमंडल के साथ डीएम के बालाजी से मिले। डीएम से मिलकर शहरकाजी ने मस्जिदों में 500 लोगों के नमाज पढ़ने की अनुमति मांगी। उन्होंने कहा कि बड़ी मस्जिदों में 500 लोगों को नमाज पढ़ने की अनुमति प्रशासन दे।

उन्होंने कहा कि अब मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों की पढाई प्रभावित हो रही है। अब जिले के मदरसों केा भी खोला जाए। उन्होंने कहा कि मदरसों में पढ़ने वाले बच्चे गरीब तबके के हैं उनके पास आनलाइन क्लास करने के लिए स्मार्ट फोन नहीं है। मदरसे नहीं खुलने से पढाई का नुकसान हो रहा है। शहरकाजी ने जोर देकर कहा कि प्रशासन को अब मदरसों में पढ़ाई की अनुमति दी जाए। यही स्थिति शिक्षकों की भी है। उनके पास भी अधिकांश के स्मार्टफोन नहीं है। ऐसे में उन्हें मदरसों में ही पढ़ाने की अनुमति जिला प्रशासन द्वारा प्रदान की जाए।

उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि वह मस्जिदों व मदरसों में कोविड-19 के केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देशों का पूरी तरह पालन करेंगे। साथ ही काफी हद तक इसके लिए व्यवस्था कर भी ली गई है। डीएम ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। मिलने वालों में शहर काजी जैनुस साजिददीन, डॉ मेराजुद्दीन, मौलाना नफीस, मौलाना इकबाल आदि मुख्य रूप से शामिल रहे। वहीं डीएम ने 200 लोगों को मस्जिदों में नमाज पढ़ने की अनुमति प्रदान कर दी।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned