मुस्लिमों ने की वसीम रिजवी पर मुकदमा दर्ज करने की मांग

धार्मिक पुस्तक की आयतों में फेरबदल कराने का लगाया आरोप

एडीजी से मिला मुस्लिम समाज का प्रतिनिधिमंडल

मुस्लिम समाज की भावनाओं को आहत करने का आरोप

By: shivmani tyagi

Updated: 11 Jun 2021, 06:54 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

मेरठ ( Meerut Police ) कारी शफीकुर्रहमान के साथ एडीजी मेरठ से मिले मेरठ के मुस्लिम समाज के लोगों ने वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी के खिलाफ FIR दर्ज कराए जाने की मांग की है। मुस्लिम समाज के लोगों का आरोप है कि वसीम रिजवी ने उन्हें लज्जित किया है और धार्मिक ग्रंथ में फेरबदल कराने की बात कहकर सभी की भावनाओं को आहत किया है। आरोप है कि, मुसलमानों की धार्मिक पुस्तक कुरआन-ए-मजीद की कुछ आयतों को बिना किसी आधार और तर्क के फेरबदल करने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: बिकरु कांड मामले में जेल गई खुशी के पक्ष में 'आप' ने भाजपा के खिलाफ खोला मेर्चा

शिया समाज के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि वसीम रिजवी ने पूर्व में भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को निरस्त करते हुए वसीम रिजवी पर 50 हजार रुपये का आर्थिक जुर्माना लगाया था। आरोप लगाया कि वसीम रिजवी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद न्यायालय की अवहेलना कर रहे हैं। लगातार बयानबाजी कर मुसलमानों की भावनाओं को आहत पहुंचाई गई है।

भावनपुर थाने में मुकदमा दर्ज की मांग
एडीजी कार्यालय पर ज्ञापन देने में शामिल अहमदपुरा अब्दुल्लापुर निवासी सैय्यद असद रजा नकवी ने तहरीर देते हुए भावनपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है। ज्ञापन के साथ उस पत्र की प्रतिलिपि भी संलग्न करते हुए सौंपी गई, जिसे वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। एडीजी कार्यालय पर कारी शफीकुर्रहमान, कारी मौ. अफ्फान कासमी, असद रजा नकवी, वसीम अहमद, वसीम नकवी, फैज आलम व शाहनावज खान आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: पत्नी के फोन में पति ने देखा कुछ ऐसा सब्जी काटने के चाकू से रेत दी गर्दन
यह भी पढ़ें: केवल चंबल सेंक्चुरी में मिलते हैं दुर्लभ 'साल कछुए', बढ़ रही इनकी संख्या, जानें खासियत

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned