scriptMy identity is Hindi, I work in Hindi, that's why everyone knows me in | विश्व हिंदी दिवस : ''मेरी पहचान हिंदी है,हिंदी में काम करती हूं,इसलिये सब मुझे ब्रिटेन में जानते हैं'' | Patrika News

विश्व हिंदी दिवस : ''मेरी पहचान हिंदी है,हिंदी में काम करती हूं,इसलिये सब मुझे ब्रिटेन में जानते हैं''

CCSU Campus News : आज विश्व हिंदी दिवस के मौके पर सीसीएसयू के हिंदी विभाग में एक वेब गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें देश के अलावा विदेश से भी हिंदी साहित्यकार और कहानीकार उपस्थ्रित रहे। विदेशों में धाक जमा रही हिंदी ने भारतीयों की वहां पर एक नई पहचान बनाई है।

मेरठ

Updated: January 10, 2022 06:57:12 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ . CCSU Campus News : आज विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर हिंदी विभाग चौधरी चरण सिंह विश्व विद्यालय मेरठ में वेब गोष्ठी और भाषण प्रतियोगिता का आयोजन ऑनलाइन किया गया। ' विदेशों में हिंदी लेखन' विषय पर वेब गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता प्रति कुलपति प्रो0 वाई विमला ने की। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता तेजेन्द्र शर्मा और जया वर्मा रहीं। कार्यक्रम संयोजक प्रो नवीन चंद्र लोहनी, संकायाध्यक्ष कला एवम अध्यक्ष हिंदी विभाग रहे।
विश्व हिंदी दिवस :  ''मेरी पहचान हिंदी है,हिंदी में काम करती हूं,इसलिये सब मुझे ब्रिटेन में जानते हैं''
विश्व हिंदी दिवस : ''मेरी पहचान हिंदी है,हिंदी में काम करती हूं,इसलिये सब मुझे ब्रिटेन में जानते हैं''
कार्यक्रम की अध्यक्ष प्रति कुलपति प्रो० वाई विमला ने कहा कि हिंदी विश्व पटल पर अपनी पहचान बना रही है, तकनीक और रोजगार दोनो ही क्षेत्रों में हिंदी ने विकास किया है, हिंदी साहित्य सेवी और प्रेमी हिंदी को विकास के नए सोपान तक पहुंचाएंगे और हिंदी की एक अक्षुण्ण परम्परा को बनाएंगे। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता तेजेन्द्र शर्मा ने कहा कि भारत के बाहर हिंदी लेखन तीन स्तरों पर हो रहा है, गिरमिटिया, विदेशी और अपने कैरियर के लिए विदेश जाने वाले NRI हिंदी में लेखन कर रहे है। छंद से मुक्ति होने के करण कविता लेखन की सबसे लोकप्रिय विधा है।
यह भी पढ़े : NEET-PG Counseling-2021 : MCC ने जारी किया शिडयूल,छात्रों को देना होगा इस पर ध्यान

पहली पीढ़ी के लोग अब उम्र दराज़ हो चुके है, उन्होंने बताया कि ब्रिटेन में पहला कहानी संग्रह उषा राजे सक्सेना ने मिट्टी की सुगंध नाम से प्रकाशित किया। जिसमें ब्रिटेन के प्रमुख कहानीकारों को शामिल किया गया। तेजेंद्र शर्मा ने कहा कि हाल के दौर के विदेशी लेखकों में सुषम बेदी सबसे पहली लेखिका मानी जायगी। साहित्य में निरंतरता और सृजनात्मकता दोनों जरूरी हैं ।अपनी जड़ों को लेकर प्रवासी लेकिन की मूल संवेदना है। लेखकों ने विदेशी संवेदनाओं को साहित्य का विषय बनाया, जिससे हिंदी सहित्य में हम कुछ नया दे सकें। वर्तमान में हिंदुस्तानी लोग डॉक्टर, वकील, व्यवसायी के रूप में काम कर रहे हैं। भारत के बाहर लिखे जाने वाले साहित्य को पढ़ने की आवश्यकता है, विदेशों मैं लिखे जा रहे साहित्य को लेखन को दोयम दर्जे का साहित्य न माना जाय। विदेशी जीवन को जानना है तो विदेशी लेखकों के नए साहित्य को पढ़ना चाहिए। हमारे अनुभव विदेशी है, भाषा हिंदी है, जहाँ जीवन है वहां कहानी है, प्रवासी लेखन की सृजन सामग्री भारत में निहित है, और हम भारतीयता को अपने विदेशी अनुभवों में प्रस्तुत करते रहेंगे।
यह भी पढ़े : CCSU Campus News : 'वीसी मैम! प्लीज पास कर दीजिए वरना करियर हो जाएगा खराब'

कार्यक्रम में जय वर्मा ने कहा कि इंग्लैंड में सन 1950 से हिंदी लेखन हो रहा है,लेकिन प्रवासी साहित्य का प्रकाशन सन 2000 से आरंभ हुआ और आज विपुल मात्रा में प्रवासी साहित्य मौजूद है और लिखा जा रहा है। विदेशों में हिंदी लेखन से हिंदी की व्यापकता बढ़ी है, और भारतीय भाषाओं की पहचान विश्व पटल पर स्थापित हुई है। मेरी पहचान आज हिंदी है, हिंदी में काम करती हूं, इसलिये सब मुझे ब्रिटेन में जानते हैं और इसका मुझे गर्व है। उन्होंने कहा कि वे समझती हैं कि भारतीय लोग भी हिंदी को स्वाभिमान से जोडें, तभी हिंदी आगे बढ़ेगी। सृजनात्मक साहित्य और अनुवाद में हिंदी में रोजगार की अपार से संभावनाएं हैं।
यह भी पढ़े : Corona effect : CBSE और ICSE ने बोर्ड परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए जारी किए ये निर्देश

प्रथम सत्र में हिंदी की "वैश्विकता और वर्तमान स्थिति विषय पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें विभाग के छात्र छात्राओं ने बढ़ चढ़ कर हिस्सेदारी की। प्रतियोगिता में निर्णायक मंडल में विभाग के शिक्षक डॉ अंजू, डर प्रवीण कटारिया, डॉ आरती राणा रहे। प्रथम सत्र का संचालन डॉ0 विद्यासागर सिंह और द्वितीय सत्र का संचालन डॉ अंजू ने किया। इस दौरान जया देवी, निकुंज कुमार, अंकिता तिवारी, पुष्पेंद्र कुमार, अंजलि पाल आदि ने पुरस्कार जीते।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup: टीम इंडिया का पूरा शेड्यूल, जानें कब और किस टीम से होगा मुकाबलाइंडिया गेट पर लगेगी नेता जी की मूर्ति, पीएम मोदी ने ट्वीट की तस्वीरUP Election 2022: पूर्वांचल में कितना और क्या गुल खिलाएगा अखिलेश का ब्राह्मण कार्डकेरल में एक दिन में सामने आए 46 हजार नए मामले, अब लगेगा कम्प्लीट लॉकडाउन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.