Pollution मेरठ सहित वेस्ट के छह जिलों पर एनजीटी ने लगाया 8 करोड का जुर्माना

  • गाजियाबाद, नोएडा, शामली, मुजफ्फरनगर और बागपत जिले भी शामिल
  • हिंडन, कृष्णा और काली नदी को माना प्रदूषण का कारण
  • एनजीटी की ओवर साइट कमेटी ने सुनवाई के बाद की कार्रवाई की

By: shivmani tyagi

Updated: 30 Jan 2021, 01:29 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ (meerut news ) ग्रामीणों के लिए कैंसर और अन्य गंभीर बीमारियां उगल रही पश्चिम उत्तर प्रदेश की प्रमुख नदिया हिंडन, कृष्णा और काली नदी को प्रदूषण का कारण मानते हुए एनजीटी ( NGT ) ने मेरठ सहित वेस्ट के छह जिलों पर आठ करोड सात लाख रुपये का जुर्माना ( fine ) ठोका है। इन नदियों से हो रहे प्रदूषण को लेकर एनजीटी सख्त हो गया है। जुर्माने की कार्रवाई एनजीटी की ओवर साइट कमेटी ने सुनवाई के बाद की है। कमेटी के अनुसार वेस्ट की इन नदियों सहित 27 नदी नालों से गंभीर प्रदूषण उत्पन्न हो रहा है। एनजीटी की इस कार्रवाई से अधिकारियों को पसीना आ गया है।

यह भी पढ़ें: यूपी भाजपा ने जिला प्रभारी किए घोषित, इन 98 दिग्गज नेताओं पर जताया भरोसा, देखें पूरी लिस्ट

दरअसल, बीते दिनों एनजीटी की ओवर साइट कमेटी ने दोआबा पर्यावरण समिति बनाम उत्तर प्रदेश राज्य मामले की वीडियो कांफ्रेंस के जरिये सुनवाई की थी जिसमें चेयरमैन जस्टिस एसवीएस राठौर और सदस्य डॉक्टर अनूप चंद्र पाण्डेय ने सुनवाई के दौरान सात जिलों में हिंडन, काली और कृष्णी नदी को प्रदूषित करने वाले नदियों-नालों की समीक्षा की थी।

यह भी पढ़ें: मुरादाबाद में ट्रक और बस की जाेरदार टक्कर, दस यात्रियों की माैत 10 से अधिक घायल

समीक्षा के बाद शामली, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, मेरठ और बागपत आठ करोड़ सात लाख रुपये का जुर्माना लगाया। निगम के पर्यावरण प्लानर डॉक्टर उमर सैफ के मुताबिक एनजीटी द्वारा सभी नदियों की लगातार मॉनेटरिंग की जा रही है। माह के तीसरे सोमवार को नदियों के प्रदूषण को लेकर समीक्षा की जाती हैं। एनजीटी ने नदियों को प्रदूषित करने के मामले में मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली समेत छह जिलों पर आठ करोड़ सात लाख का जुमार्ना लगाया है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned