सपा नेता पर गिरी गाज, अखिलेश यादव के करीबी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

समाजवादी पार्टी पर एक बार फिर गाज गिरी है। अखिलेश यादव के करीबी के खिलाफ पुलिस ने गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है।

By: Ashutosh Pathak

Published: 10 Nov 2017, 03:00 PM IST

मेरठ। समाजवादी पार्टी नेताओं पर लगातार गाज गिर रही है। अब पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के सबसे करीबी नेता पर गाज गिरी है। जी हां, मेरठ पुलिस ने सपा नेता अतुल प्रधान के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दी है। बताया जा रहा है कि अतुल प्रधान के खिलाफ पुलिस ने दस मुकदमों में गैर जमानती वारंट जारी किया है।

 

Non bailable warrant issued against Akhilesh Yadav close friend

काफी समय से पुलिस तलाश कर रही है अतुल प्रधान की


सुमित गुर्जर एनकाउंटर मामले में पुलिस इंस्पेक्टर के खिलाफ अभ्रद भाषण और कमिश्नरी पार्क में बिना अनुमति धरना-प्रदर्शन करने के बाद से पुलिस अतुल प्रधान की तलाश कर रही है। बता दें कि मखदूमपुर सभा में अखिलेश के करीबी नेता अतुल प्रधान ने सुमित गुर्जर एनकाउंटर मामले में पुलिस इंस्पेक्टर को चीरने की धमकी दी थी। इसके बाद अतुल प्रधान के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। पुलिस अतुल प्रधान की लगातार तलाश कर रही है, लेकिन वो गिरफ्तर में नहीं आ रहा है। आखिरकार, अतुल प्रधान को पकड़ने के लिए पुलिस ने गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है। पुलिस के मुताबिक, इस सपा नेता पर दर्ज 25 मुकदमों में से दस में पुलिस ने उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किए हैं। इसके बावजूद पुलिस अभी तक खाली हाथ है। अतुल प्रधान के खिलाफ गुरुवार को भी शहर और देहात क्षेत्र में कर्इ जगह दबिशें डाली, लेकिन उसका कोर्इ सुराग नहीं लग सका। एसएसपी मंजिल सैनी ने कहा है कि वह शायद कोर्ट में सरेंडर की सोच रहा है, लेकिन पुलिस कोर्ट पर भी कड़ी निगाह रख रही है और उसे हर हाल में गिरफ्तार करके रहेगी।


आचार संहिता का भी किया था उल्लंघन

कमिश्नरी पार्क में सुमित गुर्जर के भाईयों का मुंडन और धरने प्रदर्शन के बाद प्रशासन ने इस प्रदर्शन को आचार संहिता तोड़ने पर दो मुकदमे दर्ज किए थे। इंस्पेक्टर पर अभद्र टिप्पणी की वीडियो वायरल होने के बाद से पुलिस और प्रशासन की नजर सपा नेता अतुल प्रधान पर टेढ़ी हो गर्इ थी। इस वीडियो के आधार पर शासन ने भी इस सपा नेता के आपराधिक रिकार्ड की रिपोर्ट तलब की थी। उसके बाद से लगातार पुलिस दबिशें डाल रही है, लेकिन अतुल प्रधान का पता नहीं चल पा रहा है। अतुल पर कुल 25 मुकदमें दर्ज हैं।

Show More
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned