मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में सिर्फ 13 फीसदी वैक्सीनेशन, कहीं घातक न बन जाए तीसरी लहर

योग दिवस पर पुलिस बल के साथ मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में वैक्सीन लगाने उतरी स्वास्थ्य विभाग की टीम

By: lokesh verma

Published: 21 Jun 2021, 03:42 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ.
सातवें अंतराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर जहां लोगों ने सुबह योग शिविर में भाग लेकर स्वस्थ होने का संदेश दिया। वहीं, दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग ने सोमवाार से लोगों को कोरोना मुक्त करने के लिए घर-घर वैक्सीनेशन का काम शुरू कर दिया। योग दिवस के इस मौके पर मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में पुलिस के साथ स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मोहल्लों में दस्तक दी। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन के लिए मुस्लिम बाहुल्य इलाके मुसीबत बने हुए हैं। यहां अभी तक सिर्फ 13 प्रतिशत वैक्सीनेशन हो सका है। खासकर श्याम नगर, लक्खीपुरा, समर गार्डन, नूर नगर, जाकिर कालोनी, हुमायूनगर,गोला कुंआ, इस्लामाबाद जैसे क्षेत्र। इन क्षेत्रों में कोरोना का सेंपल लेने के लिए गई स्वास्थ्य विभाग की टीम को भी बंधक बनाकर पीटा भी जा चुका है।

यह भी पढ़ें- यूपी में अब कब लगेगा लॉकडाउन व नाइट कर्फ्यू और कब होगी साप्ताहिक बंदी, तीसरी लहर के लिए सरकार ऐसे लेगी फैसला

बता दें कि वैक्सीन का डोर-टू-डोर अभियान आगामी 1 जुलाई से शुरू होगा, लेकिन इसके लिए ट्रायल सोमवार से शुरू कर दिया गया। यह ट्रायल 30 जून तक चलाया जाएगा। उसके बाद एक जुलाई से टीकाकरण अभियान पूरे जिले में वृहद पैमाने पर चलाया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ पुलिस और प्रशासन की टीम भी लगाई गई है। मजिस्ट्रेट, सीओ और एसीएमओ क्षेत्र में लोगों को कोरोना टीकाकरण के बारे में जानकारी दे रहे हैं। अभियान में स्वास्थ्य विभाग की 45 टीमें महानगर में लगाई गई हैं। कोरोना टीकाकरण अभियान की गति मुस्लिम बस्तियों में काफी धीमी है। यह इसी बात से बता चलता है कि अब तक मात्र 13 प्रतिशत वैक्सीनेशन ही मुस्लिम इलाकों में हो पाया है। कोरोना वैक्सीनेशन की मुस्लिम इलाकों में धीमी गति तीसरी लहर में घातक हो सकती है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस अपडेट : यूपी सरकार की सख्ती ही तीसरी लहर को कर सकेगी बेअसर राज्य स्तरीय परामर्शदाता कमेटी ने जमा कराई रिपोर्ट दिए सुझाव

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned