मंगेतर से लड़ाई पर ओटी टैक्नीशियन ने लगाया एनेस्थिसिया का इंजेक्शन, माैत

  • शुक्रवार की सुबह ओटी के भीतर पड़ा मिला शव
  • मंगेतर से बात करते-करते हो गई थी लड़ाई
  • पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा

By: shivmani tyagi

Published: 22 Jan 2021, 10:18 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

मेरठ. मंगेतर से लड़ाई होने पर एक ओटी टैक्नीशियन ने एनेस्थिसिया इंजेक्शन लगाकर जान दे दी। उसका शव ऑपरेशन थिएटर के भीतर ही पड़ा पाया गया। घटना थाना मेडिकल क्षेत्र के एक प्राइवेट अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर की है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भर उसको पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

यह भी पढ़ें: पति की अचानक मौत हुई तो शव से लिपटकर पत्नी ने भी तोड़ दिया दम

बिजनौर के रहने वाले फतेह सिंह गढ़ रोड स्थित एक अस्पताल में ओटी टेक्नीशियन है। गुरुवार की रात फतेह सिंह की ड्यूटी अस्पताल में लगी हुई थी। अन्य स्टाफ को पर्सनल काम बताकर फतेह सिंह ओटी में घुस गया। शुक्रवार सुबह उसका शव ओटी के भीतर पड़ा था। डॉक्टर संदीप गर्ग ने बताया कि फतेह सिंह ने एनेस्थिसिया का इंजेक्शन लगाकर जान दे दी है। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार उसका अपनी मंगेतर से विवाद हो गया था। पुलिस ने फतेह सिंह के परिजनों को सूचना दे दी है। थाना मेडिकल इंस्पेक्टर प्रमोद गौतम का कहना है कि फतेह सिंह की मौत के मामले में पुलिस जांच कर रही है। फतेह सिंह पिछले काफी समय से मेरठ में किराए के मकान में रह रहा था। फतेह सिंह पिछले एक साल से एक प्राइवेट अस्पताल में ओटी टेक्नीशियन के पद पर तैनात था। इन दिनों फतेह सिंह की नाइट ड्यूटी चल रही थी।

यह भी पढ़ें: डबल मर्डर का खुलासा, पुलिस ने आरोपी दामाद को गिरफ्तार कर जेल भेजा

अस्पताल के स्टाफ के मुताबिक देर रात फतेह सिंह काफी खुश होकर ड्यूटी पर आया था। कुछ दिनों पहले ही फतेह सिंह का रिश्ता तय हुआ था। जिसके चलते वह रात को काफी-काफी देर तक अपनी मंगेतर से मोबाइल पर बात किया करता था। मगर देर रात फतेह सिंह ओटी में किसी से मोबाइल पर झगड़ता रहा। लेकिन, हॉस्पिटल के स्टाफ ने इसे घरेलू मामला समझ कर नजरअंदाज कर दिया।

यह भी पढ़ें: दिल्ली कूच पर अड़े किसानों को पुलिस प्रशासन ने रोका तो सड़क मार्गों को कर दिया जाम

शुक्रवार की सुबह हॉस्पिटल के सफाई कर्मचारी साफ-सफाई के लिए ओटी में पहुंचे तो कुर्सी के पास जमीन पर फतेह सिंह की लाश पड़ी थी। लाश के आसपास खून बिखरा हुआ था। जिसके चलते सफाई कर्मचारियों के होश उड़ गए। मामले की जानकारी मिलने पर मेडिकल थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने घटनास्थल की जांच जांच-पड़ताल की। जहां युवक की लाश के पास ही एनेस्थीसिया देने में प्रयोग किए जाने वाला एक खाली इंजेक्शन और सिरिंज बरामद हुई। वहीं मृतक का मोबाइल भी लाश के पास ही पड़ा था। एसओ ने बताया कि मृतक के मोबाइल की जांच करने पर उसमें देर रात तक उसकी मंगेतर की 30 कॉल मिली हैं।

यह भी पढ़ें: गुड़ चाकू, शक्कर और चीनी के दामों में बड़ी गिरावट, जानिये आज के भाव

बताया जा रहा है कि किसी बात पर मंगेतर से हुए विवाद के बाद युवक ने एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाकर अपनी जान दे दी। मरने से पहले फतेह सिंह ने खाली सिरिंज से अपनी नसों से खून भी निकाला। जिससे उसके बचने की कोई गुंजाइश ना रहे। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और मामले की जांच कर रही है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned