श्री राम के नाम से चिकन मसाले के पैकेट का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल, हिंदू संगठनों में राेष

Highlights

  • हिंदू संगठनों ने किया कंपनी का विरोध
  • कंपनी मालिक के खिलाफ कार्रवाई की मांग

By: shivmani tyagi

Updated: 19 Oct 2020, 08:47 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क, मेरठ। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के नाम से चिकन मसाले का पैकेट तैयार किये जाने का मामला सामने आया है। राम के नाम पर चिकन मसालों का पैकेट की फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई ताे हिंदू संगठनों ने इसका विराेध किया। हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों ने कंपनी मालिक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़ें: फेस्टिव सीजन में बाजारों में सिविल वर्दी में तैनात रहेगी पुलिस

हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों ने राम के नाम पर चिकन मसाला बेच रही कंपनी का विरोध जताते हुए कंपनी को बंद करने की मांग की है। इसके साथ ही कंपनी मालिक के खिलाफ सख्त कार्रवाई को लेकर पुलिस अधिकारियों को शिकायत की है। हिंदू संगठनों का कहना है कि कंपनी धार्मिक भावनाओं को भड़काने का काम कर रही है। कंपनी की इस हरकत से हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता और पदाधिकारियों को ठेस लगी है। राम के नाम पर हिंदू संगठन के वाट्सएप ग्रुप में चिकन मसाले की फोटो धड़ल्ले से वायरल हो रही है। फोटो में मसाला कंपनी का नाम श्रीराम नाम से है। पोस्ट में कहा गया है कि कंपनी भगवान के नाम का सहारा लेकर ज्यादा लाभ कमाने के लिए मीट मसाला बेच रही है। इस तरह से हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को कंपनी ठेस पहुंचा रही है। हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं का कहना है कि कंपनी भगवान श्रीराम के नाम पर मीट मसाला कैसे बेच सकती है। छावनी मंडल के भाजपा कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध जताते हुए पुलिस अधिकारियों से मामले की शिकायत करने की बात कही है।

यह भी पढ़ें: कुमार विश्वास के घर के बाहर से चाेरी फॉरच्यूनर मेरठ पुलिस काे टुकड़ों में मिली

इस पूरे प्रकरण पर एएसपी कैंट डॉक्टर ईरज राजा का कहना है कि कंपनी राजस्थान की है। दो साल पहले हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के विरोध के चलते कंपनी ने मसाला बेचना प्रतिबंधित कर दिया था। अब कहां से यह फोटो वायरल हुआ इसके बारे में जांच करवाई जा रही है। इसकी जांच करवाई जा रही है। इस मामले में जो भी उचित कार्रवाई होगी की जाएगी।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned