जहरीली शराब से हुई मौतों के बाद भी पियक्कड़ों में नहीं कोई खौफ, देखें वीडियो

Sanjay Kumar Sharma | Publish: Feb, 11 2019 05:07:21 PM (IST) | Updated: Feb, 11 2019 05:07:22 PM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

पियक्कड़ रेल की पटरी पर बैठकर पी रहे शराब

मेरठ। प्रदेश में जहरीली शराब हुई मौतों के बाद चारों ओर हड़कंप मचा हुआ है। जहरीली शराब से हुई मौतों के बाद सरकार और प्रशासन चौकन्ना हो गया है, लेकिन मेरठ में शराबियों पर इसका कोई खौफ नहीं है। वे अपनी मस्ती में मस्त होकर बेखौफ कहीं भी बैठकर जाम से जाम टकरा रहे हैं। इतना ही नहीं रेल की पटरी को नहीं मय शौकीनों ने अपना मयखाना बना लिया है। नई बस्ती लल्लापुरा थाना टीपी नगर में शराबियों द्वारा खुलेआम रेलवे लाइन की पटरी पर बैठकर शराब पीते हुए देखा जा सकता है। इन्हें किसी का कोई डर नहीं, न आम जनता का और न ही पुलिस का।

यह भी पढ़ेंः Update: मेरठ में उपचार के दौरान जहरीली शराब से पांच और मौतों के साथ संख्या पहुंची 23

शराब के इन शौकीनों को शराब खरीदने के लिए कहीं दूर जाने की जरूरत नहीं है। इन लोगों को आसानी से सौ से दो सौ रूपये में बोतल लल्लापुरा में मिल जाती हैं। बताते चलें कि लल्लापुरा अवैध शराब बेचने का बड़ा ठिकाना है। यहां पर पुलिस और आबकारी विभाग की मिलीभगत से खुलेआम शराब की बिक्री होती है। सुबह हो या शाम या फिर रात किसी भी समय शराब के शौकीन आसानी से इस बस्ती से शराब खरीद सकते हैं। ऐसा नहीं कि थाना पुलिस या फिर आबकारी के अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं है। जानकारी होने के बाद भी यहां पर कभी छापेमारी नहीं की जाती। प्रदेश में जहरीली शराब से हुई मौतों के बाद भी यहां आबकारी विभाग की नजरें इनायत ही रही। इतना होने के बाद भी विभाग ने यहां पर छापेमारी के कोई प्रयास नहीं किए।

यह भी पढ़ेंः जहरीली शराब को लेकर भीम आर्मी ने योगी सरकार से की ये मांग, पूरी नहीं करने पर दी ये चेतावनी

शाम हो या दिन रेल पटरी ही मयखाना

पीने के शौकीनों के लिए शाम हो या फिर सुबह रेल पटरी ही मयखाना है। पटरी पर ही गिलास सज जाया करते हैं और इसी पर बैठकर जाम से जाम टकराये जाते हैं।

यह भी पढ़ेंः पुलिस मुठभेड़ में शातिर 'चूहे' का हुआ ये हाल

हो सकता है बड़ा हादसा

रेल की पटरी पर बैठकर शराब पी जाती हैै। इस दौरान लोग नशे में भी होते हैं। जिस ट्रैक पर बैठकर शराब पी जाती है उस पर दिल्ली और मेरठ के लिए दर्जनों ट्रेनें चलती हैं। ऐसे में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है और पिक्कड़ों के कारण उनके परिजनों को बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned