CM पोर्टल पर शिकायत के बाद हरकत में आई पुलिस ने 48 घंटे में ढूंढ निकाले मनचले

Highlights
- एक महिला सिपाही का आरोपी दामाद गिरफ्तार कर जेल भेजा
- पुलिस बनाती रही पीड़िता पर समझौते का दबाव
- नोएडा से लौट रही युवती से की थी छेड़छाड़

By: lokesh verma

Published: 13 Jan 2021, 11:46 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ. महानगर में मनचलों के हौसले कितने बुलंद हैं, इसकी एक बानगी गत रविवार की रात देखने को मिली, जब नोएडा से वापस लौट रही मीडियाकर्मी युवती के साथ मचनलों ने छेड़छाड़ कर दी। युवती ने गुपचुप तरीके से दोनों मनचलों की वीडियो बना ली और इसकी शिकायत सीएम पोर्टल पर डाल दी। फिर क्या था सीएम कार्यालय से आए फोन पर पुलिस अलर्ट हो गई और घटना के 48 घंटे के भीतर ही आरोपियों को तलाश लिया। दोनों आरोपियों में एक महिला सिपाही का दामाद निकला। पुलिस पीड़ितों पर समझौते का दबाव बनाती रही, लेकिन बात नहीं बनी तो दोनों को जेल भेजना पड़ा।

यह भी पढ़ें- मुस्लिम युवती से 6 माह पहले लव मैरिज करने वाले युवक की हत्या, बॉटेनिकल गार्डन के पास मिला शव

दरअसल, नौचंदी थाना क्षेत्र निवासी युवती नोएडा के एक संस्थान में मीडियाकर्मी है। रविवार रात वह घर आ रही थी। हापुड़ अड्डा चौराहे पर जैसे ही वह ई-रिक्शा में सवार हुई तो स्कूटी सवार दो युवक उसके पीछे लग गए। उसने मनचलों की वीडियो बना ली और पिता को फोन कर दिया। घर से कुछ दूरी पर पिता और अन्य लोग मौजूद थे, जिनको देखकर आरोपी भाग गए। युवती ने इसकी शिकायत सीएम पोर्टल के साथ ही पुलिस को ट्वीट भी कर दी थी और वीडियो भी अपलोड कर दी थी। वीडियो में आरोपी का चेहरा था, लेकिन स्कूटी पर नंबर नहीं था।

कोतवाली प्रभारी आशुतोष कुमार ने बताया कि एक आरोपी का नाम शाहबाज निवासी जाकिर सोसायटी थाना नौचंदी और दूसरे का नाम वासिक निवासी प्रहलाद नगर थाना लिसाड़ी गेट है। इनमें से एक महिला सिपाही का दामाद है। जानकारी होने पर महिला सिपाही थी थाने पहुंची और इज्जत का हवाला देते हुए पीड़िता से समझौते की गुहार लगाने लगी, लेकिन पीड़िता ने समझौता करने से साफ मना कर दिया। अंत में पुलिस ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया।

यह भी पढ़ें- पुलिस औैर बदमाशों के बीच जमकर हुई 'ठायं-ठायं', दो लुटेरे बने गोली का शिकार

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned