VIDEO: सफाईकर्मियों ने दी चेतावनी, मांगें न मानी तो शहर को बना देंगे नरक

Sanjay Kumar Sharma

Updated: 14 Jul 2019, 04:17:45 PM (IST)

Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

मेरठ। भाजपा सरकार की नीतियों के खिलाफ अब वाल्मीकि समाज भी सड़कों पर उतर आया है। वाल्मीकि समाज ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गयी तो वो शहर को नरक बना देंगे। सफाईकर्मियों ने निजीकरण के विरोध में प्रदर्शन किया। सूरजकुंड से शुरू हुआ सफाईकर्मियों का हुज्जम डीएम कार्यालय पर जाकर खत्म हुआ। इस दौरान सफाईकर्मियों ने राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन डीएम को सौंपा। सफाईकर्मियों का नेतृत्व कर रहे ब्लू पैंथर पार्टी के डा. सुशील कुमार ने कहा कि भाजपा का भारत स्वच्छता अभियान महज एक धोखा है। अब जिलों की सफाई का जिम्मा निजी कंपनियों को दिए जाने की तैयारी की जा रही है। जो सफाईकर्मी के साथ धोखा है। भाजपा सरकार सफाई कर्मचारियों का शोषण कर रही है। उन्होंने कहा कि 27 जिले के कर्मचारियों को निजीकरण में लाने का आदेश सरकार ने दिया है। सपा नेता विपिन मनोठिया ने कहा कि सरकार की सफाई व्यवस्था के निजीकरण का वाल्मीकि समाज औऱ बहुजन समाज विरोध करता है। सफाईकर्मियों की मांग थी कि जो आउटसोर्सिंग के कर्मचारी हैं, उनको संविदा पर रखा जाए, जो संविदा कर्मचारी हैं, उनको नियमित किया जाए। सपा सरकार में जो 40 हजार सफाई कर्मियों की भर्ती रुकी हुई हैं, उन्हें तत्काल पूरा किया जाए। प्रदर्शनकारियों ने सरकार पर आरोप लगाए कि भाजपा सरकार में मेरठ मंडल में सफाई कर्मियों को मानदेय 18 हजार नहीं मिल रहा है। इसे तत्काल देने की व्यवस्था की जाए। इस दौरान सफाई कर्मचारियों ने हाथों में स्लोगन लिखी तख्तियां ली हुई थी।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned