150 साल बाद चंद्रमा को लाल आैर नीला होते देखकर यहां के बच्चे आैर बड़े हुए बेहद रोमांचित

शहर में कर्इ स्थानों पर चंद्रग्रहण देखने के लिए लगाए गए थे उपकरण, मंदिरों के कपाट बंद रहे

मेरठ। भारत समेत दुनिया के कई देशों में साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण लाइव देखने के लिए शहर में कर्इ स्थानों पर आयोजन किया गया था। महानगर के प्रतिष्ठित एलेक्जेंडर एथलेटिक्स क्लब और सेना के व्हीलर्स क्लब में विशेष आयोजन किया गया। चंद्रमा की दुर्लभ खगोल घटना को लाइव देखने के लिए लोग काफी रोमांचित थे। इसके लिए कई टेलिस्कोप व अन्य उपकरण लगाए गए थे।

रेड आैर ब्लू मून

चंद्रग्रहण शाम 5 बजकर 18 मिनट से शुरू होकर रात आठ बजकर 41 मिनट पर खत्म हुआ, लेकिन इसका ज्यादा प्रभाव छह बजकर 55 मिनट ज्यादा देखा गया। इस दौरान चंद्रमा ने तीन रंग बदले। ब्लैक के साथ रेड व ब्लू रंग देखकर सभी छोटे व बड़े इसे देखकर रोमांचित हुए। विशेषज्ञों ने बताया कि एेसी सुपर खगोलीय घटना करीब 150 साल बाद हुर्इ है आैर दुनिया के लिए यह बिल्कुल अलग तरह की घटना है। शहर में पूरे समय चंद्रग्रहण के दौरान सभी वर्ग के लोगों में उत्सुकता बनी रही।

चंद्रग्रहण के दौरान यह भी

पूर्ण चंद्रग्रहण के कारण अन्य जगह भी इसका असर देखा गया। शहर के मंदिर सुबह आठ बजे से ही बंद हो गए थे, जो रात तक बंद रहे। इस दौरान लोगों ने अपनी राशि के मुताबिक गरीबों को दान दिया आैर मन ही मन मंत्र आैर पाठ किया। साथ ही चंद्रग्रहण के दौरान अन्य कार्यों से परहेज किया।

इन्होंने एेसा कहा

स्कूलों में स्पेस साइंस की वर्कशाॅप का आयोजन करने वाले विकास शर्मा ने कहा कि यह सुपर चंद्रग्रहण था। इसमें चंद्रमा पृथ्वी के पास आ गया था। उसने रेड व ब्लू विशेष रंग बदले। एेसे रंग में चंद्रमा का दिखना दुनिया की अनूठी प्रक्रिया रही। उन्होंने बताया कि एेसा 150 साल बाद हुआ है, लेकिन अब आगे यही स्थिति अगले 15-20 साल में देखने को मिल सकती है। इसे देखने के लिए बच्चे ही नहीं, बड़ों ने भी काफी दिलचस्पी दिखार्इ।

 

sanjay sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned